MP NEWS - महिला तहसीलदार ने चिल्लाते हुए कहा, चूजे हैं यह, अंडे से निकले नहीं, बड़ी-बड़ी बातें...

मध्य प्रदेश शासन की तहसीलदार सुश्री अंजली गुप्ता का एक वीडियो वायरल हुआ है। इसमें वह ग्रामीणों पर भड़कते हुए दिखाई दे रही हैं। कह रही हैं, चूजे हैं यह, अंडे से निकल नहीं, बड़ी-बड़ी मरने मारने की बात करते हैं। कैसे इसने बोल दिया कि मैं रिस्पांसिबल हूं। मैं तहसीलदार हूं। यह किसका प्रोजेक्ट है, शासन का प्रोजेक्ट है। किसने चुना शासन को सरकार को, आप लोगों ने चुना। मैंने चुना क्या। मैंने कहा क्या MPPTCL को, मैं कैसे रिस्पांसिबल हूं। इसके बाद अचानक उनकी नजर वीडियो रिकॉर्ड करने वाले पर पड़ गई और उन्होंने रिकॉर्डिंग बंद करवा दी। 

तहसीलदार शासन का प्रतिनिधि होता है - सामान्य ज्ञान

यहां बताना आवश्यक है कि, तहसीलदार, अपर कलेक्टर, एसडीएम और कलेक्टर इत्यादि इस प्रकार के मामलों में शासन के अधिकृत प्रतिनिधि होते हैं। लोगों के सवालों का जवाब देना ही उनकी जिम्मेदारी है। सुश्री अंजली गुप्ता, शासन के प्रतिनिधि के तौर पर ही ग्रामीणों से मिलने गई थी। स्वाभाविक है कि, जिस किसान के खेत में टावर लगाया जा रहा है, उसकी नाराजगी का सामना भी शासन के प्रतिनिधि को ही करना होगा। यदि कोई "यू आर रिस्पांसिबल" कह देता है तो शासन का प्रतिनिधि स्वयं पर से नियंत्रण नहीं खो सकता। 

शासन और सरकार में अंतर होता है

दूसरी महत्वपूर्ण बात यह है कि, शासन और सरकार में अंतर होता है। जनता अपने लिए सरकार चुनती है। शासन के अधिकारियों का चुनाव UPSC एवं MPPSC द्वारा किया जाता है। तहसीलदार की नियुक्ति जनता के वोट से नहीं होती। वायरल वीडियो में महिला तहसीलदार, जनता को मिस गाइड करते हुए दिखाई दे रही है। उनके बयान का अर्थ निकलता है कि, इसके लिए वह नहीं बल्कि शासन जिम्मेदार है। जबकि वास्तविकता यह है कि मौके पर महिला तहसीलदार ही शासन का प्रतिनिधि है। 

तहसीलदार अंजली गुप्ता का स्पष्टीकरण

तहसीलदार सुश्री अंजली गुप्ता ने इस मामले में अपना पक्ष रखते हुए कहा कि यह मामला पिछले हफ्ते गुरुवार का है। एक किसान के खेत में MPPTL का टावर आ रहा था। में बाधा डाल रहे थे। इस पॉइंट को रिजॉल्व करने के लिए मैं वहां पर गई थी। मेरे द्वारा उनको समझाइए कि उनका पूरा मुआवजा दिया जाएगा। उनके द्वारा सहमति भी व्यक्ति की गई थी, लेकिन अगले दिन फिर से उनके द्वारा व्यवधान उत्पन्न किया गया। इसलिए हम एक बार और वहां पर प्रयास करने के लिए गए थे। मौके पर उनके द्वारा भी असभ्य शब्दों का और गैर मर्यादित शब्दों का उपयोग किया गया। 

⇒ पिछले 24 घंटे में सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार पढ़ने के लिए कृपया यहां क्लिक कीजिए। इसी प्रकार की जानकारियों और समाचार के लिए कृपया यहां क्लिक करके हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें। यहां क्लिक करके भोपाल समाचार का व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करें यहां क्लिक करके भोपाल समाचार का टेलीग्राम चैनल सब्सक्राइब करें। क्योंकि भोपाल समाचार के टेलीग्राम चैनल - व्हाट्सएप ग्रुप पर कुछ स्पेशल भी होता है।


#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Check Now
Accept !