MP NEWS- एकलव्य स्कूल के 15 अतिथि शिक्षकों को वार्षिक चयन प्रक्रिया से मुक्ति, हाईकोर्ट का आदेश

एकलव्य मॉडल रेजिडेंशियल स्कूल्स में कार्यरत अथिति शिक्षकों, शक्ति झरिया एवम 14 अन्य द्वारा, आयुक्त जनजातीय कार्य विभाग के द्वारा जारी आदेश दिनांक 31/03/23 को उच्च न्यायालय जबलपुर के समक्ष याचिका दायर कर मांग की गई थी कि हर वर्ष विज्ञापन चयन के माध्यम से उनकी सेवा समाप्त नही की जावे, जब तक नियमित शिक्षकों की नियुक्ति नहीं हो।

अतिथि शिक्षक के स्थान पर अतिथि शिक्षक की भर्ती नहीं कर सकते

पीड़ित अतिथि शिक्षकों ने मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय जबलपुर के समक्ष दायर कर नवीन निर्देशों को चुनौती दी थी। अतिथि शिक्षकों की ओर से उच्च न्यायालय जबलपुर के वकील श्री अमित चतुर्वेदी ने मुख्य न्यायधीश की अध्यक्षता वाली युगल पीठ के समक्ष तर्क रखते हुए बताया कि, जनजातीय कार्य विभाग का आदेश दिनांक 30/03/23, इस स्थापित विधि के विरुद्ध है कि जब तक नियमित भर्ती नही की जाए, अतिथि शिक्षकों के एक समूह को दूसरे समूह से प्रतिस्थापित नही किया जा सकता है। दूसरे शब्दों में जब तक नियमित शिक्षकों की भर्ती नही हो, अतिथि शिक्षकों के स्थान पर, दूसरे अतिथि शिक्षक की भर्ती नही की जावे।

अधिवक्ता अमित चतुर्वेदी , उच्च न्यायालय जबलपुर के तर्को से सहमत होकर,  उच्च न्यायालय जबलपुर ने याचिकाकर्ता अतिथि शिक्षकों के पक्ष में आदेश जारी करते हुए, जनजातीय कार्य विभाग एवम  प्रतिवादियों को निर्देश दिए हैं, कि जब तक नियमित शिक्षकों की भर्ती उन विद्यालयों में नही होती, याचिकाकर्ता अतिथि शिक्षक सेवा से पृथक नही किए जाएं। 

 पिछले 24 घंटे में सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार पढ़ने के लिए कृपया यहां क्लिक कीजिए। ✔ इसी प्रकार की जानकारियों और समाचार के लिए कृपया यहां क्लिक करके हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें। ✔ यहां क्लिक करके हमारा टेलीग्राम चैनल सब्सक्राइब करें।  ✔ यहां क्लिक करके व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन कर सकते हैं। क्योंकि भोपाल समाचार के टेलीग्राम चैनल - व्हाट्सएप ग्रुप पर कुछ स्पेशल भी होता है।

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Check Now
Accept !