KVS शिक्षक भर्ती में सागर यूनिवर्सिटी BEd वालों को हाईकोर्ट से राहत नहीं- MP Rojgar News

जबलपुर
। मध्य प्रदेश के डॉ हरिसिंह गौर केंद्रीय विश्वविद्यालय (सागर यूनिवर्सिटी) से जारी हुई चार वर्षीय इंटीग्रेटेड बीएड डिग्री को केंद्रीय विद्यालय संगठन ने अमान्य कर दिया है। इस फैसले के खिलाफ DHSGSU के छात्रों ने हाईकोर्ट में याचिका प्रस्तुत की थी परंतु कोई राहत नहीं मिली अब केंद्रीय प्रशासनिक अधिकरण से न्याय की मांग की जाएगी। 

DHSGSU से BEd वाले केंद्रीय विद्यालय PGT व TGT के लिए अपात्र

याचिकाकर्ता सागर स्थित डा. हरीसिंह गौर केंद्रीय विश्वविद्यालय से चार वर्षीय इंटीग्रेटेड बीएड कोर्स करने वाले छात्र-छात्राओं की ओर से अधिवक्ता रामेश्वर सिंह ठाकुर ने पक्ष रखा। उन्होंने दलील दी कि यह कोर्स NCTE से मान्यता प्राप्त है। इसके बावजूद केंद्रीय विद्यालय संगठन PGT व TGT शिक्षकों के पदों की भर्ती में अपात्र निरूपित कर चुका है।महज क्षेत्रीय कालेजों से बीएड करने वालों को पात्र माना गया है। यह रवैया संविधान की मूल भावना के विपरीत है। इसीलिए चुनौती दी गई है। 

नवोदय विद्यालय समिति ने मान्य किया, केंद्रीय विद्यालय समिति को क्या प्रॉब्लम

सवाल उठता है कि जब नवोदय विद्यालय द्वारा शिक्षक भर्ती में चार वर्षीय इंटीग्रेटेड कोर्स को मान्य किया गया है तो केंद्रीय विद्यालय संगठन द्वारा क्यों नहीं। यह विरोधाभास क्यों। इससे हजारों छात्र-छात्राओं का भविष्य अधर में लटक गया है। मामले की प्रारंभिक सुनवाई के दौरान याचिका वापिस किए जाने का निवेदन किया गया। जिसे केंद्रीय प्रशासनिक अधिकरण, कैट जाने की स्वतंत्रता देते हुए स्वीकार कर लिया गया।

✔ इसी प्रकार की जानकारियों और समाचार के लिए कृपया यहां क्लिक करके हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें एवं यहां क्लिक करके हमारा टेलीग्राम चैनल सब्सक्राइब करें। क्योंकि भोपाल समाचार के टेलीग्राम चैनल पर कुछ स्पेशल भी होता है।