ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पकौड़े क्यों तले, प्रमोशन या प्रदर्शन- GWALIOR MELA NEWS

ग्वालियर
। केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ग्वालियर मेले में आकर पकोड़े तले। वैसे भारत में लोग सरकार का विरोध प्रदर्शन करने के लिए पकोड़े तलते हैं परंतु ज्योतिरादित्य सिंधिया विरोध प्रदर्शन नहीं बल्कि मेले का प्रमोशन करने के लिए पकौड़े तल रहे थे। 

श्रीमंत महाराज साहब ने मेले में पकौड़े क्यों तले

ज्योतिरादित्य सिंधिया ग्वालियर में केंद्रीय मंत्री से कहीं ज्यादा हैं। यहां वह श्रीमंत महाराज साहब हैं। दुनिया में कहां क्या करते हैं इससे कोई मतलब नहीं लेकिन ग्वालियर में जो कुछ भी करते हैं, जनता उसके मायने खोजने की कोशिश करती है। उनसे पहले तक के जितने भी श्रीमंत महाराज साहब हुए, उन्होंने दुकानदारों को प्रोत्साहित करने के लिए बख्शीश दी, इनाम दिया, आर्थिक मदद की। 

वर्तमान श्रीमंत महाराज साहब ने किसी की दुकान पर पकौड़े, किसी की दुकान पर गराडू और किसी की दुकान पर भटूरे तले। लोग समझने की कोशिश कर रहे हैं कि श्रीमंत महाराज साहब ने ऐसा क्यों किया। बिक्री तो रवीना टंडन के आने पर भी बढ़ जाती है। श्रीमंत महाराज साहब और दूसरों में कुछ तो अंतर होना चाहिए। 

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पकौड़े क्यों तले, प्रमोशन या प्रदर्शन

दुकानदार भाइयों के अलावा राजनीति के रिसर्च सेंटर चलाने वालों का अपना आकलन होता है। वह भी जानना चाहते हैं कि केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पकोड़े क्यों तले। सवाल इसलिए उठाया क्योंकि ग्वालियर मेले का उद्घाटन दिनांक 5 जनवरी को निर्धारित था। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आने वाले थे परंतु ऐन मौके पर कार्यक्रम स्थगित हो गया। 7 जनवरी को हुआ लेकिन मुख्यमंत्री नहीं आए। 

इससे पहले ग्वालियर गौरव समारोह भी ठीक एक दिन पहले निरस्त कर दिया गया था। काफी तनावपूर्ण स्थिति बन गई थी। यही कारण है कि लोग जानना चाहते हैं ज्योतिरादित्य सिंधिया इन दिनों क्या कर रहे हैं। पार्टी का प्रमोशन कर रहे हैं, पार्टी के भीतर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं या फिर लोगों को दिखाने के लिए शक्ति प्रदर्शन कर रहे हैं।