MPTET- शिक्षक पात्रता परीक्षा-2023 के 4 नए नियम, पढ़िए फायदेमंद है या हानिकारक- Rojgar Samachar MP

भोपाल। लोक शिक्षण संचालनालय और जनजातीय कार्य विभाग मध्यप्रदेश शासन के लिए कर्मचारी चयन मंडल, भोपाल द्वारा उच्च माध्यमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा-2023 (MP-HSTET अथवा MPTET VARG-1) की घोषणा कर दी गई है। इसकी रूलबुक में चार ऐसी बातें हैं जो सबसे चर्चा का प्रमुख केंद्र बन गई है। विशेषज्ञ इन का अध्ययन कर रहे हैं और उसके बाद प्रतिक्रिया सामने आएगी कि नए नियम उम्मीदवारों के लिए फायदेमंद है या नहीं। 

MPTET VARG-1 में पहली बार नेगेटिव मार्किंग होगी

1. मध्य प्रदेश हायर सेकेंडरी टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट 2023 में नेगेटिव मार्किंग होगी। मध्य प्रदेश के इतिहास में यह पहली बार है जब इस परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग का डिसीजन लिया गया है। यह पॉइंट सबसे ज्यादा सुर्खियों में है। उम्मीदवार और प्रतियोगी परीक्षाओं की कोचिंग चलाने वाले टीचर्स इसकी समीक्षा कर रहे हैं। फिलहाल समर्थन और विरोध दोनों सामने आ रहे हैं। 

मध्यप्रदेश में BEd के बाद TET भी नियमित कोर्स परीक्षा

2. मध्यप्रदेश शासन में शिक्षक पात्रता परीक्षा की वैलिडिटी लाइफटाइम कर दी है। यह बड़ी अच्छी बात है, एक बार पात्रता हासिल करने के बाद नौकरी मिलनी ही चाहिए लेकिन इसके साथ एक नया नियम जोड़ दिया गया है। पात्रता परीक्षा पास करने के बाद भर्ती परीक्षा भी पास करनी पड़ेगी। इस हिसाब से देखा जाए तो मध्यप्रदेश में शिक्षक बनने के लिए BEd या Deled के बाद MPTET भी एक नियमित कोर्स जैसी परीक्षा हो गई है। 

राहत की बात- अपने सब्जेक्ट का टॉपर होना, सही है

3. सबसे बड़ा परिवर्तन हुआ है पेपर के पैटर्न में, 150 अंकों के पेपर में आपके विषय के सवालों का वजन बढ़ाया गया है, अब आपके विषय का हिस्सा 120 अंकों का रहेगा एवं बाकी केवल 30 अंकों का रहेगा।

डिग्री के साथ सर्टिफिकेट कोर्स की तरह कर सकते हैं

4. मास्टर्स डिग्री या BEd डिग्री के फाइनल ईयर में अध्ययनरत अभ्यर्थी पात्रता परीक्षा देने के लिए पात्र हैं। यानी BEd के साथ MPTET कोर्स की परीक्षा भी दे सकते हैं।

सबसे इंपॉर्टेंट- TET की घोषणा हुई है, भर्ती परीक्षा की नहीं

5. सबसे इंपॉर्टेंट बात यह है कि फिलहाल शिक्षक पात्रता परीक्षा की घोषणा की गई है। भर्ती परीक्षा की घोषणा नहीं की गई है। सरकार इस बात के लिए बाध्य नहीं है कि शिक्षक पात्रता परीक्षा के तत्काल बाद भर्ती परीक्षा का आयोजन किया जाएगा। जैसा कि ऊपर बताया गया है, नियमित कोर्स की परीक्षा की तरह अब हर साल MPTET का आयोजन भी किया जाएगा। क्योंकि इस परीक्षा का भर्ती से कोई संबंध नहीं है।