MP NEWS- कमलनाथ का फोटो प्रेम, राहुल के कारण शिक्षक सस्पेंड और सरकार की प्रतिक्रिया

भोपाल
। मध्यप्रदेश में राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा से संबंधित तीन प्रमुख समाचार सामने आए हैं। पहला, कमलनाथ को फोटो खिंचवाने का बड़ा शौक है। आज भी यात्रा में आए, फोटो खिंचाया और चले गए। दूसरा, राहुल गांधी के कारण एक सरकारी शिक्षक सस्पेंड हो गया और तीसरा, मध्य प्रदेश सरकार के प्रवक्ता ने राहुल गांधी के उस बयान का जवाब दिया है जिसमें उन्होंने पूछा था कि भाजपा के लोग सियाराम क्यों नहीं बोलते। 

कमलनाथ का फोटो प्रेम

कांग्रेस पार्टी की ओर से सीएम कैंडिडेट कमलनाथ को फोटो खिंचवाने का बड़ा शौक है। जवानी के दिनों में संजय गांधी की कार की ड्राइविंग की होगी। यह कोई उपलब्धि वाली बात नहीं है लेकिन वह फोटो आज तक रखा हुआ है। समय-समय पर दिखाया भी जाता है। फिलहाल राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में कमलनाथ रोज शामिल होते हैं। कुछ कदम राहुल गांधी के साथ चलते हैं। फोटो वीडियो कैप्चर किए जाते हैं और फिर उनका केयरटेकर उन्हें भीड़ से दूर ले जाता है। सवाल यह है कि जब सब जानते हैं कि कमलनाथ पदयात्रा नहीं कर सकते, तो फोटो खींच आने की जरूरत क्या है। 

राहुल गांधी के कारण सरकारी शिक्षक सस्पेंड 

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा मध्य प्रदेश में आई तो कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं के अलावा उसकी विचारधारा से जुड़े लोगों में भी उत्साह भर गया। बड़वानी के एक सरकारी शिक्षक श्री राजेश कन्नौजी तो इतने उत्साहित हुए कि भूल ही गए हुए एक सरकारी कर्मचारी हैं। तीर कमान लिए और राहुल गांधी को भेंट कर दिए। राहुल गांधी ने भी कंधे पर हाथ रखा। बढ़िया फोटो वीडियो वायरल हो गए। अब जिला शिक्षा अधिकारी ने उन्हें सस्पेंड कर दिया है। टर्मिनेशन की कार्रवाई हो सकती है। 

राहुल गांधी को मध्य प्रदेश सरकार का जवाब 

राहुल गांधी ने कहा था कि भाजपा के लोग सियाराम क्यों नहीं बोलते फिर आरोप लगाया था कि भाजपा में महिलाओं को महत्व नहीं दिया जाता। शिवराज सिंह चौहान सरकार के प्रवक्ता एवं गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने आज कहा कि, राहुल बाबा का ज्ञान 'बाबा-बाबा ब्लैक शिप' तक ही सीमित है। राहुल जी ने गीता के पन्ने कभी पलटे नहीं होगें और रामायण कभी पढ़ी नहीं होगी,तो वो कैसे जानेंगे कि राम के नाम की शुरुआत 'श्री' से ही होती है। 

नाम के आगे श्री लगाने का क्या मतलब होता है

यदि आप भोपाल समाचार डॉट कॉम के नियमित पाठक तो आपको पता होगा कि किसी भी व्यक्ति के नाम के आगे श्री लगाने का मतलब होता है, दंपति को संबोधित करना। जैसे जय श्रीराम का मतलब होता है, जय सीताराम। यही कारण के हनुमान जी के नाम के आगे श्री नहीं लगाते। भगवान भोलेनाथ के नाम के आगे भी श्री नहीं लगाते, क्योंकि वह अर्धनारीश्वर है।