OLA CAB APP में गड़बड़ी, 13 को 31 और 45 को 127 बताया, 1Km का ₹122 वसूला

इंदौर।
ओला कैब के मोबाइल ऐप में गड़बड़ी सामने आई है। बताया जा रहा है कि किसी मॉक एप के माध्यम से ओला कैब के ड्राइवर गड़बड़ी कर रहे हैं। इसके कारण एक यात्री का 13 किलोमीटर की दूरी तय करने पर 31 किलोमीटर का बिल आया तो दूसरे यात्री का 45 किलोमीटर की दूरी पर 127 किलोमीटर का बिल आया। एक यात्री से तो 1 किलोमीटर का ₹122 वसूला गया। 

इंदौर में ओला कैब के ड्राइवर क्या कर रहे हैं

पत्रकार देव कुंडल और विश्वनाथ सिंह की एक रिपोर्ट के अनुसार मॉक एप के माध्यम से सारी गड़बड़ी की जा रही है। कैब एक्चुअल में सही रूट पर चल रही होती है परंतु मॉक एप के कारण कोई दूसरे रूट पर चलती है। बाद में जब राइड क्लोज होती है। तो मॉक एप वाले ट्रैफिक रूट का बिल स्क्रीन पर दिखाई देने लगता है। इसके कारण किसी ग्राहक को 13 किलोमीटर 31 किलोमीटर का बिल पे करना पड़ता है तो किसी ग्राहक से 45 किलोमीटर की जगह 127 किलोमीटर का बिल वसूला जाता है। पूछताछ करने पर कैप के ड्राइवर झगड़ा करने पर उतारू हो जाते हैं। ज्यादातर पैसेंजर अपने डेस्टिनेशन पर पहुंचकर झगड़े से बचना चाहते हैं, इसलिए पेमेंट कर देते हैं। 

कुछ घटना है जो मीडिया ट्रायल में रिकॉर्ड की गई

राइड-1 : अरबिंदो से उज्जैन : 45 किमी का बिल 2463 रुपए
प्रिया परमार ने अरबिंदो से उज्जैन के लिए ओला कैब बुक की। बुकिंग के समय एप पर दूरी 45 किमी व किराया 1224 रुपए बताया गया। वे उज्जैन पहुंची तो करीब तीन गुना ज्यादा 127 किमी दूरी का 2463 रुपए बिल थमा दिया। विरोध के बाजवूद कैब ड्राइवर जिद पर अड़ा रहा कि एप पर जो किराया आया है वह चुकाना ही होगा।

राइड-2 : एयरपोर्ट से सिलिकॉन सिटी : 13 काे बना दिया 31 किमी
सुधा रंजन पानीग्राही ने एयरपोर्ट से सिलिकॉन सिटी के लिए ओला बुक की। बुकिंग के समय दूरी 9 किमी व किराया 350 रुपए बताया। घर पहुंची तो 740 रुपए का बिल थमा दिया दूरी 31.5 किमी बताई। ई-बिल में रूट देखा तो कैब अनजाने रास्तों पर चलना बताया। स्क्रीन शॉट कंपनी को मेल भी किया, लेकिन जवाब नहीं आया।

राइड-3 : रसोमा से सपना-संगीता किराया, दूरी और समय सभी ज्यादा
भास्कर टीम ने रसोमा चौराहे से सपना संगीता के लिए मिनी कैब बुक की। ड्राइवर इंदिरा प्रतिमा से अग्रसेन प्रतिमा व सपना-संगीता के बजाय नवलखा से पालदा तरफ ले गया। फिर नौलखा, भंवरकुआं से सपना संगीता लाया। बुकिंग के समय दूरी 7.7 किमी व किराया 184 रुपए था। बिल में दूरी 10.3 किमी व किराया 236 आया।

राइड-4 : सियागंज से सुपर कॉरिडोर किराया व दूरी दोनों 25% बढ़ी
रेलवे स्टेशन (सियागंज) से मिनी कैब बुक की। मैप में दूरी 8.4 किमी व किराया 276 रुपए आया। रूट मरीमाता से टाटा स्टील चौराहा, एमआर 5 व छोटा बांगड़दा से सुपर कॉरिडोर था। ड्राइवर ने रूट बदल दूरी 14 किमी कर दी। किराया 25% बढ़ गया।

राइड-5 : दो टैक्सी एक साथ चली, दोनों के बिल अलग-अलग
सुदामा नगर से एक ही समय (सुबह 9.30) व एक ही स्थान से एयरपोर्ट के लिए दो कैब बुक की। दोनों साथ-साथ चली। एक का बिल 204 दूसरी का 232 रुपए आया। इसमें 8 रुपए वेटिंग चार्ज, 8 इंमरजेंसी हैल्थ पैक व 16 टैक्स के जोड़े।

राइड 6 : बिना एप के ले गया और दूसरा बिल थमाने लगा
सिंबायोसिस से सिडान बुक की। जब चलने के लिए ओटीपी बताया तो ड्राइवर कहने लगा मेरे पास आपकी राइड बुक ही नहीं हुई है। कैंसल कर दीजिए मैं आपको ऐसे ही ले चलता हूं। बिल मांगा तो हफ्तेभर पुराना बिल देकर बोला इससे काम हो जाएगा। 

कस्टमर केयर ने कहा कि जो शिकायत करेगा उसे पैसा लौटा देंगे

पत्रकार देव कुंडल और विश्वनाथ सिंह का दावा है कि उन्होंने इसके बारे में एक प्रश्नावली ईमेल के माध्यम से ओला कंपनी के मैनेजमेंट तक पहुंचाई थी परंतु लगभग एक महीना इंतजार करने के बाद भी उनकी तरफ से कोई जवाब नहीं आया है। 

जब उन्होंने कस्टमर केयर पर बात की तो अविनाश सिंह ने स्वीकार किया कि बिलिंग में कई बार गड़बड़ी हो जाती है। कई महत्वपूर्ण सवालों के जवाब अविनाश सिंह नहीं दे पाए। उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि जो भी ग्राहक शिकायत करेगा, हम जांच करेंगे और सही पाई गई तो उसका पैसा वापस लौटा देंगे। यानी यदि कोई ग्राहक शिकायत नहीं करेगा तो उसे इस गड़बड़ी का शिकार होना पड़ेगा।