MP NEWS- जबलपुर में रेल कर्मचारियों की हड़ताल शुरू, WCREU के बैनर तले प्रदर्शन

जबलपुर
। कोचिंग डिपो जबलपुर में वेस्ट सेंट्रल रेलवे एम्पलाइज यूनियन (डबलूसीआरईयू) के तत्वावधान में C&W विभाग की समस्याओं को लेकर आज से कर्मचारियों ने अनिश्चितकालीन क्रमिक भूख हड़ताल शुरू कर दी हैं। हड़ताल के पहले दिन सतीश कुमार, ओम प्रकाश सिंह और रंजीत दुबे को मंडल अध्यक्ष बीएन शुक्ला व मंडल सचिव रोमेश मिश्रा ने तिलक वंदन कर माला पहनाकर भूख हड़ताल पर बैठाया। वहीं अन्य कर्मचारी कल से भूख हड़ताल पर बैठेंगे।

कर्मचारियों के मुताबिक लगातार उन पर काम का दबाव बनाया जा रहा है लेकिन पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित नहीं की जा रही है। संरक्षा व सुरक्षा नियमों का उल्लंघन कराते हुए कार्य कराया जा रहा है। प्रशासन को लगातार इन समस्याओं की ओर ध्यान दिलाया जाता रहा। लेकिन प्रशासन इन मांगों की अनदेखी कर रहा हैं। जिसके खिलाफ डबलूसीआरईयू ने मांग पूरी नहीं होने तक अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल करने का निर्णय लिया है।

रेल कर्मचारियों की मांगे

  • जबलपुर में गाड़ी के मेंटीनेंस (अनुरक्षण) में कर्मचारियों की संख्या एवं बैचों की संख्या कम की जा रही है एवं कर्मचारियों का जी.एम. आफिस, डी.आर. एम. आफिस एवं रिकॉर्डर में लगाया जा रहा है।
  • कोचिंग डिपो में पहले रेक मेंटेनेंस में कोरोना काल के पहले 14 बैच थे। अभी वर्तमान में 11 बैच कार्यरत हैं। जिस कारण कर्मचारियों पर कार्य का दबाव बहुत अधिक बढ़ गया है।पूर्व की तरह 14 बैच बनाये जायें।
  • कोचिंग डिपो में रेक मेंटेनेंस स्टाफ के लिए पर्याप्त स्टाफ रूम नहीं है।
  • यहां के टॉयलेट में हमेशा ठेकेदार के कर्मचारियों का कब्जा रहता है। कर्मचारियों के लिए टॉयलेट की अलग से व्यवस्था की जाये।
  • जबलपुर में मटेरियल की भारी कमी है। यार्ड में खड़ी गाडिय़ों से Parts को खोलकर लगाने का दबाव बनाया जाता है। जिससे कभी बड़ा हादसा हो सकता है।
  • कर्मचारियों व ठेका कर्मचारियों की सेफ्टी जैकेट के कलर व मोनो में अंतर किया जाये।
  • कोचिंग डिपो के पिट्स की स्थिति काफी खराब है। अधिकांश लाइटें बंद पड़ी हैं। कुछ समय पूर्व होने के कारण एक कर्मचारी को सांप ने काट लिया था। लाइटें ठीक कराई जाये।