BHOPAL NEWS- छात्र की संदिग्ध मौत, डेड बॉडी में इलेक्ट्रिक वायर लिपटा मिला

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में एक छात्र की संदिग्ध मौत हो गई। कुलदीप वर्मा की उम्र 20 वर्ष थी। वह NEW MAX HOSPITAL की मेडिकल स्टोर पर काम करता था और VNS COLLEGE से B Pharma (Bachelor of Pharmacy) में एडमिशन के लिए रजिस्ट्रेशन करवाया था। उसके हाथों में इलेक्ट्रिक वायर लिपटा हुआ मिला है। 

घटना शनिवार शाम भोपाल के नीलबड़ इलाके की है। रातीबड़ थाना प्रभारी सुधेश तिवारी ने बताया कि कुलदीप वर्मा (20) पिता गजराज सिंह बिलकिसगंज, सीहोर का रहने वाला था। इसी साल उसने BSc की पढ़ाई पूरी की थी। इसके बाद VNS COLLEGE में BFarma के एडमिशन के लिए रजिस्ट्रेशन कराया था। शनिवार शाम करीब साढ़े 7 बजे पुलिस को सूचना मिली कि कुलदीप कमरे का दरवाजा नहीं खोल रहा है। पुलिस गेट तोड़कर कमरे के अंदर पहुंची। 

कमरे में जमीन पर कुलदीप की डेड बॉडी पड़ी हुई थी। उसके दोनों हाथों में बिजली के तार बंधे हुए थे और दूसरे सिरे पर इलेक्ट्रिक प्लग लगा हुआ था। यह बिल्कुल वैसा ही वायर था जैसा टेबल लैंप का इलेक्ट्रिक वायर होता है। बॉडी के ऊपर झाड़ू पड़ी हुई थी। कमरे में से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। 

पुलिस का मानना है कि दरवाजा अंदर से बंद था इसलिए कुलदीप ने खुद को करंट लगाकर आत्महत्या कर ली परंतु तकनीकी तौर पर यह संभव नहीं लगता क्योंकि इलेक्ट्रिक प्लग इतना मजबूत नहीं था कि झटका लगने पर बोर्ड से बाहर ना निकलता। वैसे भी पुलिस को इलेक्ट्रिक प्लग जमीन पर पड़ा हुआ मिला। पिता के अनुसार शाम तक सब ठीक था। एडमिशन के लिए रजिस्ट्रेशन की फीस ₹10000 जमा कर दी थी। यदि सुसाइड करना होता तो कॉलेज में पैसे क्यों जमा करवाता।

सिर्फ एक बात जो इन्वेस्टिगेशन के योग्य है वह यह कि उसने शनिवार की छुट्टी ली थी और बताया था कि उसे घर जाना है जबकि वह घर नहीं गया। शायद उसके मोबाइल से कुछ पता चले।

किसान का इकलौता बेटा था, शाम तक सब ठीक था

कुलदीप के पिता गांव में खेती करते हैं। वह परिवार में एकलौता बेटा था। 26 अगस्त की शाम उसकी पिता से बात हुई थी। उसने पिता से सबकुछ ठीक होने का कहा था। शनिवार सुबह पिता ने फिर फोन लगाया, लेकिन स्विच ऑफ मिला। उन्होंने मकान मालिक को फोन किया। मकान मालिक ने बताया कि वह ड्‌यूटी पर हैं। ड्‌यूटी से जाकर देखते हैं। वह शाम को घर पहुंचे तो कुलदीप का दरवाजा अंदर से बंद मिला। आवाज देने पर भी जब वह नहीं उठा तो पुलिस को सूचना दी गई।

मेडिकल दुकान में कर रहा था जॉब

कुलदीप के रिश्ते में भाई राज कुमार वर्मा ने बताया कि उसने BSc की पढ़ाई इसी साल पूरी की थी। महीनेभर पहले ही वह भोपाल आया था। नीलबड़ में कमरा लेकर वह NEW MAX HOSPITAL के मेडिकल स्टोर में जॉब भी कर रहा था। उसने मेडिकल स्टोर के संचालक को फोन पर मैसेज कर शनिवार को छुट्‌टी ले ली थी। उसने मैसेज किया था कि उसे घर जाना है, इसलिए शनिवार को नहीं आएगा। एडमिशन के लिए उसने घर से 34 हजार रुपए भी मंगाए थे। जिसमें से 10 हजार रुपए उसने रजिस्ट्रेशन के लिए जमा कर दिए थे।