BHOPAL NEWS- मैं ब्राह्मणों के पैरों पर सिर रखकर माफी मांगूंगा, भाजपा नेता ने कहा

भोपाल
। पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती के रिश्तेदार एवं भाजपा नेता प्रीतम लोधी ने ब्राह्मणों को चरित्रहीन एवं लालची कहा था। ब्राह्मण समाज द्वारा विरोध करने के बाद प्रीतम लोधी ने अपने बयान के लिए माफी मांगी है। उन्होंने कहा कि मैं देशभर के ब्राह्मणों के पैरों पर सिर रखकर माफी मांग लूंगा, लेकिन ब्राह्मण समाज प्रीतम लोधी को माफ करने के मूड में नहीं है। ब्राह्मण समाज ने भाजपा को अल्टीमेटम दिया है कि यदि प्रीतम लोधी को पार्टी से निष्कासित नहीं किया गया तो पार्टी को ब्राह्मण समाज के विरोध का सामना करना होगा। 

उल्लेखनीय है कि प्रीतम लोधी के खिलाफ 37 आपराधिक मामले दर्ज हैं। इसके बावजूद उमा भारती की कृपा के कारण भारतीय जनता पार्टी के प्रतिष्ठित नेता बने हुए हैं। उनका विवादित बयान सामने आने के बाद प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने प्रीतम लोधी को तलब किया था। प्रीतम लोधी उनसे मिलने उनके आवास पर पहुंचे जहां वीडी शर्मा ने उन को जमकर फटकार लगाई। 

ब्राह्मण समाज जैसा कहेगी मैं वैसा करने के लिए तैयार हूं: प्रीतम लोधी ने कहा

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा से मिलने के बाद प्रीतम लोधी प्रदेश भाजपा कार्यालय पहुंचे। यहां उन्होंने कहा विधानसभा चुनाव आने वाले हैं ऐसे में कांग्रेसी उनका वीडियो एडिट करके दुष्प्रचार कर रहे हैं। मैं ब्राह्मण समाज का सम्मान करता हूं। जब देवताओं ने ब्राह्मणों को पूजा है तो मैं कैसे पीछे रह सकता हूं। मैंने आशाराम, रामरहीम, मिर्ची बाबा जैसे बाबाओं को लेकर बोला था। प्रीतम लोधी ने कहा यदि मेरे वीडियाे के बाद ब्राह्मण समाज की भावनाएं आहत हुईं हैं तो मैं माफी मांगता हूं। ब्राह्मण समाज जैसा कहेगी मैं वैसा करने के लिए तैयार हूं। मैं देश भर के ब्राह्मणों के पैरों पर सिर रखकर माफी मांगूंगा। 

ब्राह्मण समाज प्रीतम लोधी को पार्टी से निष्कासित करने की मांग पर अड़ा

इधर ब्राह्मण समाज प्रीतम लोधी को भारतीय जनता पार्टी से निष्कासित करने की मांग पर अड़ा हुआ है। ब्राह्मण समाज ने राजधानी भोपाल में डीबी मॉल के सामने विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारी ब्राह्मणों ने कहा कि प्रीतम लोधी के खिलाफ 37 आपराधिक मामले दर्ज हैं। ऐसा व्यक्ति भारतीय जनता पार्टी में नहीं होना चाहिए। ब्राह्मण समाज स्वाभाविक रूप से भारतीय जनता पार्टी से जुड़ा हुआ है परंतु अपमान सहन नहीं करेंगे। यदि पार्टी ने प्रीतम लोधी को निष्कासित नहीं किया तो ब्राह्मणों के उग्र विरोध का सामना करना होगा।