SAGAR पर प्रह्लाद पटेल का कब्जा, राजपूत, भार्गव और भूपेंद्र किनारे लगे- MP NEWS

भोपाल
। जिला पंचायत के चुनाव परिणाम मध्यप्रदेश में राजनीति का चित्र बदल रहे हैं। जिले के पावरफुल नेताओं की लिस्ट बदल रही है। सागर जिला मंत्री गोपाल भार्गव और भूपेंद्र सिंह का माना जाता था। सिंधिया की कृपा से इस लिस्ट में गोविंद सिंह राजपूत का नाम भी जुड़ गया लेकिन जिला पंचायत के नतीजे बताते हैं कि सागर पर प्रह्लाद पटेल का कब्जा हो गया है।

सागर जिला पंचायत के चुनाव में सबसे ज्यादा किरकिरी ज्योतिरादित्य सिंधिया की कृपा से शिवराज सिंह सरकार में परिवहन मंत्री बने गोविंद सिंह राजपूत की हुई। उनका भतीजा टिंकू राजा ना केवल चुनाव हार गया बल्कि एक ऐसे प्रत्याशी से चुनाव हार गया जिसे केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल का आशीर्वाद प्राप्त है। पॉलिटिक्स यह भी है कि गोविंद सिंह राजपूत ने अपने भाई को निर्विरोध चुनाव जिताया। इसके लिए उन्हें मंत्री भूपेंद्र सिंह के साथ मीटिंग भी करनी पड़ी। सवाल उठना लाजमी है कि टिंकू राजा के लिए प्रहलाद पटेल से मीटिंग क्यों नहीं की।

फिलहाल जिला पंचायत में मंत्री प्रह्लाद पटेल के समर्थक सदस्यों की संख्या सबसे ज्यादा है। दूसरे नंबर पर मंत्री गोपाल भार्गव के सदस्य। गोविंद सिंह राजपूत अपने भाई को जिला पंचायत अध्यक्ष बनाना चाहते हैं। इस समीकरण के कारण मंत्री भूपेंद्र सिंह खेल से बाहर हो गए हैं। अब सीधा मुकाबला प्रह्लाद पटेल और गोविंद सिंह राजपूत के बीच है। दोनों भारतीय जनता पार्टी के नेता है। बात सिर्फ जिला पंचायत की नहीं है बल्कि पूरे सागर की है। फैसला हो जाएगा, सागर पर किस की सत्ता कायम होगी।

EXTRA SHOT- प्रह्लाद पटेल- दमोह में दम नहीं दिखा पाए, हार गए

दमोह जिला पंचायत में कौन अपना अध्यक्ष बनाएगा, ये निर्दलीय तय करेंगे। केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल के संसदीय क्षेत्र की इस जिला पंचायत में कांग्रेस ने 5 वार्ड में, BJP ने 4 वार्ड में जीत दर्ज की है, जबकि 6 निर्दलीय जीते हैं।