मध्य प्रदेश में मतदान स्थगित करने की मांग, भाजपा के नेतृत्व पर प्रश्न चिन्ह- MP NEWS

भोपाल
। मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व पर प्रश्न चिन्ह लग गया है। विचारधारा की दृष्टि से देखें तो बहुत गंभीर बात है। भाजपा के नेताओं को याद ही नहीं था कि गुरु पूर्णिमा कब है। चुनाव घोषित हुए और पहला चरण भी पूरा हो गया। 8 जुलाई को ज्ञापन दिया गया है कि 13 जुलाई का मतदान स्थगित किया जाए क्योंकि इस दिन गुरु पूर्णिमा है। 

भारतीय जनता पार्टी ने मध्य प्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग के कमिश्नर को ज्ञापन सौंपते हुए लिखा कि, प्रदेश के नगरीय निकाय चुनाव के दूसरे चरण का मतदान 13 जुलाई को घोषित किया गया है। इस दिन गुरु पूर्णिमा पर्व है एवं हिंदू धर्म में इस दिन का बड़ा महत्व है, इस दिन अनेकों श्रद्धालु अपने गुरु स्थानों पर जाते हैं, जिससे मतदान प्रभावित होना निश्चित है और यह भारत निर्वाचन आयोग की मंशा (अधिकतम मतदान) के विपरीत है। अतः निवेदन है कि 13 जुलाई को होने वाले मतदान को अगले दिन अर्थात् 14 अथवा 15 जुलाई को निर्धारित किया जाना उचित होगा। 

चुनाव आयोग भी गजब, राष्ट्रपति चुनाव के दिन मतदान की तारीख घोषित कर दी

भाजपा के ज्ञापन में बताया गया कि नगरीय निकायों के दूसरे चरण के मतदान की मतगणना 18 जुलाई को की जाना है, 18 जुलाई को ही महामहिम राष्ट्रपति के निर्वाचन के मतदान का कार्यक्रम है। इसलिए राज्य मुख्यालय (भोपाल) पर मान सांसदगण एवं मान. विधायकगण का उपस्थित रहना अनिवार्य होगा। महामहिम राष्ट्रपति का निर्वाचन प्रदेश के समस्त प्रशासनिक एवं राजनैतिक तंत्र के लिये सर्वोच्च प्राथमिकता का विषय है। अतः आग्रह है कि 18 जुलाई को होने वाली नगरीय निकायों की द्वितीय चरण की मतगणना को 2 दिन पश्चात किया जाना सर्वथा उचित होगा। 

ताजा समाचार यह है कि राज्य निर्वाचन आयुक्त ने भाजपा की मंशा के अनुसार दोनों तारीखों पर मतदान स्थगित करके नवीन तारीख घोषित करने का ऐलान किया है। मतगणना की तारीख 20 जुलाई घोषित कर दी गई है।