BHOPAL NEWS- वन विहार में पर्यटकों की जान खतरे में, आदमखोर बाघ फरार

भोपाल
। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के वन विहार नेशनल पार्क में पर्यटक को जान का खतरा उत्पन्न हो गया है। रेस्क्यू सेंटर में बंद टाइगर अचानक फरार हो गया। आनन-फानन में सभी पर्यटकों को वन विहार नेशनल पार्क से बाहर निकाला गया। 2 घंटे बाद फरार हुआ टाइगर मिल गया परंतु खतरा बना हुआ है। जो टाइगर एक बार फरार हो गया, वह कभी भी कुछ भी कर सकता है। 

वन विहार नेशनल पार्क की सिक्योरिटी पर सवाल

वन विहार नेशनल पार्क का प्रबंधन कुछ इस प्रकार से किया गया है कि दावे के साथ सूचित किया जाता है कि पर्यटकों की जान को वन्य प्राणियों की तरफ से कोई खतरा नहीं है। एक आम चिड़ियाघर और नेशनल पार्क में यही अंतर होता है और इसी अंतर के लिए बड़ा बजट उपलब्ध कराया जाता है लेकिन आज एक आदमखोर टाइगर, वन विहार नेशनल पार्क मैनेजमेंट से एक कदम आगे निकल गया। वह अपने बाड़े से फरार हो गया। 

वन विहार में आज किसी भी पर्यटक का शिकार हो सकता था

उसने वन विभाग की जालियों और दीवारों को कब फांद दिया कोई रिकॉर्ड नहीं है। सुबह 10:00 बजे जब उसका केयरटेकर पहुंचा और शौर्य नाम का आदमखोर टाइगर बाड़े में लापता मिला तब उसने मैनेजमेंट को सूचना दी। आनन-फानन में सभी पर्यटकों को वन विहार से बाहर निकाला गया। डिप्टी डायरेक्टर एके जैन ने बताया कि 2 घंटे के सर्च ऑपरेशन के बाद टाइगर मिल गया और उसे वापस पिंजरे में ले आए हैं। 

वन विहार में जांच पूरी होने तक खतरा बरकरार

यहां उल्लेख करना अनिवार्य है कि यह वही टाइगर है जिसने हरदा में तीन लोगों की हत्या का प्रयास किया था जिसमें से एक की मृत्यु हो गई थी। एके जैन, डिप्टी डायरेक्टर, वन विहार का कहना है कि हम मामले की इन्वेस्टिगेशन कर रहे हैं। पता लगा रहे हैं कि आखिर कैसे टाइगर अपने बारे के बाहर निकल आया। चिंता की बात यह है कि जब तक यह इन्वेस्टिगेशन पूरी नहीं हो जाती तब तक बाहर निकलने का रास्ता केवल टाइगर को पता है और पर्यटकों की जान खतरे में रहेगी।