BHOPAL NEWS- ऑनलाइन क्लास में महिला प्रोफेसर को बिस्तर पर बुलाने वाले 2 छात्र गिरफ्तार

भोपाल
। मध्य प्रदेश पुलिस की साइबर सेल ने राजधानी भोपाल के दो ऐसे छात्रों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है जिन्होंने बड़ी ही चतुराई के साथ अपनी पहचान छुपाई हुई थी। टेक्निकल एक्सपर्ट होने के कारण उन तक पहुंचना मुश्किल हो रहा था। दोनों कॉलेज की ऑनलाइन क्लास में अचानक आपत्तिजनक वीडियो दिखाते और महिला प्रोफेसर बिस्तर पर बुलाते थे। 

डिश एंटीना और स्लीपर से पकड़े गए 

साइबर सेल ने 2 स्टूडेंट्स को गिरफ्तार किया है। एक का नाम अनिकेत सिंह राजपूत और दूसरे का नाम आदित्य सिंह राजपूत बताया गया है। अनिकेत सिंह उसी इंस्टिट्यूट का स्टूडेंट है जबकि आदित्य सिंह NEET की तैयारी कर रहा था। दोनों के खिलाफ आईपीसी की धारा 294, 354ए, 509 और आईटी (संशोधन) एक्ट 2008 की धारा 43/63, 67, 67ए के तहत मामला दर्ज किया गया है। पुलिस ने बताया कि दोनों बेहद शातिर हैं। ऐसी तकनीक का इस्तेमाल किया था कि उन तक पहुंचना लगभग असंभव था, लेकिन डिश एंटीना और स्लीपर के कारण पुलिस उन तक पहुंची गई। 

इस मामले की इन्वेस्टिगेशन टीम को एडिशनल एसपी साइबर सेल वैभव श्रीवास्तव ने लीड किया। उनका कहना है कि यह एक चैलेंज जॉब था क्योंकि आरोपी ना केवल फर्जी सिम का इस्तेमाल कर रहे थे बल्कि ऐसी तकनीक का इस्तेमाल कर रहे थे जिससे उनकी लोकेशन भी पता नहीं चलती थी। इस तकनीक का उपयोग अपराधियों द्वारा किया जाता है। 

दोनों छात्रों का आतंक पूरे संस्थान में था

एडिशनल एसपी वैभव श्रीवास्तव ने बताया कि दोनों छात्रों का आतंक पूरे संस्थान में था। एक महिला प्रोफेसर ने इनसे तंग आकर अपनी ऑनलाइन कक्षाएं बंद कर दी थी। स्थानीय पुलिस से शिकायत की परंतु पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। दिनांक 3 जून को वायवा के दौरान दोनों ने कॉलेज का सर्वर हैक कर लिया था और उस पर आपत्तिजनक वीडियो चला दिया। महिला प्रोफेसरों के व्हाट्सएप पर भी आपत्तिजनक वीडियो भेज रहे थे। 

इतने शातिर अपराधियों को साइबर सेल पुलिस ने कैसे पकड़ा

दरअसल, इसमें तकनीकी नहीं बल्कि पुलिस का पुराना पैटर्न काम आया। एसपी श्रीवास्तव का कहना है कि उन्होंने अपने आप को पूरी तरीके से छुपा लिया था। तकनीकी तौर पर उनका पता लगाना मुश्किल हो गया था। हमने देखा कि उनके बैकग्राउंड में दो डिश एंटीना है। एक जोड़ी स्लीपर दिखाई दिए। इन्हीं संकेतों के आधार पर आगे बढ़े और लंबी छानबीन के बाद हमें वह छत मिल गई जहां पर दोनों डिश एंटीना थे। हमने घर में जाकर स्लीपर से वेरिफिकेशन कर लिया।