MP पंचायत आउटसोर्स भर्ती प्रक्रिया नियुक्ति के पहले निरस्त, 1 लाख ने अप्लाई किया था- NEWS TODAY

भोपाल
। अशिक्षित मजदूरों की अवैध रूप से नियुक्ति करने वाले ठेकेदार और सरकार के बीच कुछ खास अंतर नहीं है। मध्य प्रदेश के पंचायत राज संचालनालय ने दर्जनों पदों पर आउटसोर्स कर्मचारियों के लिए बंपर भर्ती प्रक्रिया शुरू की। आवेदन, स्क्रुटनी, इंटरव्यू सब कुछ हुआ लेकिन नियुक्ति नहीं हुई। डायरेक्टर कहते हैं कि इस प्रक्रिया को निरस्त ही समझिए। सवाल यह है कि प्रक्रिया को निरस्त करने का आदेश कौन जारी करेगा। CEDMAP  ने परीक्षा ली है, तो रिजल्ट भी तो जारी करना पड़ेगा। 

मध्यप्रदेश में पंचायत राज संचालनालय द्वारा संचालित राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान के तहत विभिन्न पदों पर भर्ती हेतु Centre for Entrepreneurship Development Madhya Pradesh द्वारा प्रक्रिया शुरू की गई थी। नवंबर 2021 में 100000 उम्मीदवारों ने इसके लिए आवेदन किया। सेडमैप की तरफ से 10,000 अभ्यर्थियों को फरवरी 2022 में इंटरव्यू के लिए शॉर्टलिस्ट किया गया। मध्य प्रदेश के अलग-अलग जिलों अपने किराए खर्चे पर उम्मीदवार भोपाल आए। इंटरव्यू लिए गए लेकिन उसका नतीजा आज तक घोषित नहीं किया गया।

भर्ती प्रक्रिया निरस्त: पंचायत विभाग के डायरेक्टर ने कहा

पंचायत विभाग के डायरेक्टर आलोक सिंह का कहना है कि आउटसोर्स कर्मचारियों की भर्ती के लिए प्रक्रिया शुरू की थी लेकिन अब इसे रोक दिया गया है। इस प्रक्रिया को निरस्त ही समझिए। (सवाल यह है कि यदि भर्ती प्रक्रिया को निरस्त किया गया है तो आधिकारिक सूचना जारी क्यों नहीं कर रहे।)

हमारे पास रिजल्ट तैयार है, हम क्या कर सकते हैं: सेडमैप 

सेडमैप की ईंडी अनुराधा सिंघई का कहना है कि हमने मेरिट लिस्ट के आधार पर इंटरव्यू आयोजित किए थे। इसका रिजल्ट भी तैयार है, लेकिन भर्ती पंचायत विभाग को करना है। इसके लिए हम छह बार विभाग को पत्र लिख चुके हैं। 

इन पदों पर भर्ती होनी थी 
स्टेट फाइनेंस मैनेजर, कम अकाउंट असिस्टेंट, मीडिया एंड कम्यूनिटी इंस्टीट्यूशनल डेवलपमेंट एक्सपर्ट साफ्टवेयर स्पेशलिस्ट, लोकल प्लानिंग एंड गवर्नेस एक्सपर्ट प्रोग्रामर, स्टेट डिस्ट्रिक्ट टमैनेजर, ऑफिस असिस्टेंट, सब आर्डिनेटर। मध्य प्रदेश की महत्वपूर्ण खबरों के लिए कृपया MP NEWS पर क्लिक करें.