GWALIOR NEWS - गर्ल्स हॉस्टल में मिली 3 दिन से लापता लड़की, बॉयफ्रेंड के पास आंध्र प्रदेश जा रही थी

ग्वालियर।
मध्य प्रदेश के ग्वालियर शहर में 3 दिन पहले घर से लापता नाबालिग छात्रा को पुलिस ने थाटीपुर इलाके में राधिका गर्ल्स हॉस्टल से बरामद किया है। आन्ध्र प्रदेश से एक लड़के ने उसकी बुकिंग गर्ल्स हॉस्टल में कराई थी। पुलिस ने छात्रा को बरामद कर उसे उसके घर पहुंचाया है। पुलिस छात्रा के मोबाइल लोकेशन को ट्रैस कर पीछे लगी थी। छात्रा की सही लोकेशन मिलते ही पुलिस ने गर्ल्स हॉस्टल से छात्रा को बरामद कर लिया है। 

थाना प्रभारी मुरार शैलेन्द्र भार्गव का कहना है कि छात्रा के एक दोस्त ने उसे ब्लैकमेल कर आन्ध्र प्रदेश बुलाया था, लेकिन उससे पहले पुलिस को चकमा देने यहां एक हॉस्टल में एक महीने के लिए रूम बुक कर दिया था। पर मोबाइल लोकेशन से पुलिस उस तक पहुंच गई। पुलिस ने नाबालिग छात्रा को बरामद कर लिया है। छात्रा घर से भागना नहीं चाहती थी, लेकिन आन्ध्र प्रदेश में बैठे उसके दोस्त पर कुछ ऐसी चीज थी जिस कारण वह छात्रा को ब्लैकमेल कर रहा था। पुलिस की सतर्कता से बड़ी घटना टल गई है। छात्रा एपी पहुंच जाती तो उसके साथ कुछ भी हो सकता था।

उपनगर मुरार के निबुआपुरा निवासी 16 वर्षीय रानी (बदला हुआ नाम) 11वीं की छात्रा है। छात्रा तीन दिन पहले घर से निकली, लेकिन वापस ही नहीं लौटी। इस पर परिजन ने मामले की शिकातय मुरार थाना में की थी। जिस पर मुरार थाना प्रभारी शैलेन्द्र भार्गव ने पड़ताल शुरू की। पुलिस ने जब मुख्य बाजारों में लगे सीसीटीवी कैमरे खंगाले तो पता चला कि छात्रा थाटीपुर चौराहे से आगे नहीं गई है। इसके बाद पुलिस ने छात्रा के मोबाइल की कॉल डिटेल रिकॉर्ड निकाला। इसमें छात्रा की एक युवक से हैदराबाद आन्ध्रप्रदेश में लगातार बात होते मिली। छात्रा के मोबाइल की लोकेशन ग्वालियर के थाटीपुर इलाके में राधिका गर्ल्स हॉस्टल के आसपास की आ रही थी। तीन दिन बाद पुलिस जब हॉस्टल में पहुंची तो पता लगा कि छात्रा यहीं ठहरी हुई है। 

पुलिस ने छात्रा को बरामद कर पूछताछ की तो उसने बताया कि उसका दोस्त आंध्र प्रदेश में है। वैसे उसका दोस्त मुरार का ही रहने वाला है, लेकिन अभी आन्ध्र प्रदेश में है। उसके कहने पर ही छात्रा ने घर छोड़ा था। छात्रा ने बताया कि युवक व उसके पिता और मामा ने आश्वासन दिया था कि वह आध्र प्रदेश आ जाए। वहां वह सब कुछ ठीक कर देंगे। साथ ही छात्रा के लिए एक माह तक ठहरने के लिए राधिका हॉस्टल में एक कमरा भी दिलाया था, जिससे पुलिस उसे तलाश नहीं पाए। ग्वालियर की महत्वपूर्ण खबरों के लिए कृपया GWALIOR NEWS पर क्लिक करें.