संविदा कर्मचारी महासंघ ने संविदा नीति की होली जलाई, वित्त विभाग से नाराजगी - MP karmchari news

भोपाल
। मध्य प्रदेश संविदा कर्मचारी अधिकारी महासंघ के तत्वाधान में समग्र शिक्षा अभियान के संविदा कर्मचारियों ने होली के पहले 5 जून 2018 की संविदा नीति की होली जलाकर चरणबद्व आंदोलन प्रारंभ कर दिया। महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष राठौर ने बताया कि म.प्र. सरकार ने संविदा कर्मचारियों को नियिमतीकरण सहित नियिमत कर्मचारियों के समकक्ष वेतन और मंहगाई भत्ता दिये जाने के लिए एक संविदा नीति बनाई थी, जिसमें उल्लेख था कि संविदा कर्मचारियों को चरणबार नियमित किया जायेगा और नियमित कर्मचारियों के समकक्ष वेतन दिया जायेगा इसके लिए सभी विभागों ने जीएडी की 20 जुलाई के आदेश के तारतम्य में वेतन बढ़ाने की फाईल वित्त विभाग में भेजी। 

राज्य शिक्षा केन्द्र के स्कूल शिक्षा विभाग सहित 12 से 15 फाइल एक साल से वित्त विभाग में भेजी हुई लेकिन उस नस्ती पर वित्त विभाग कोई कार्यवाही नहीं करते हुये लंबित रखी है जिससे संविदा कर्मचारियों को वेतनवृद्वि नहीं हो पा रही है, जिसके कारण संविदा कर्मचारियों ने वित्त विभाग के खिलाफ नारेबाजी कर पुस्तक भवन अरेरा हिल्स के सामने संविदा नीति 2018 की प्रतियां आग के हवाले करते हुये कहा कि ऐसी नीति किस काम की ? जिसका पालन 3 साल के बाद भी उसी शासन के अधीन विभाग नहीं कर रहे हो ? वहीं दूसरी तरफ वित्त विभाग मुख्यमंत्री और मंत्रियों की लाखों करोड़ों रूपये की लक्जरी कारे खरीदने की अनुमति दे रहा है, जिससे संविदा कर्मचारियों को कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन जो संविदा कमचारी दिन-रात मेहनत कर रहा है, योग्य है उच्च शिक्षित है नियिमत कर्मचारियों से ज्यादा काम करता है उसको आधा वेतन दिया जा रहा है, वो भी चार-पांच साल से बढ़ाया नहीं जा रहा है और वित्त विभाग उस पर अड़ंगा लगाकर बैठा है। 

राज्य शिक्षा केन्द्र समग्र शिक्षा अभियान के संविदा कर्मचारियोें ने इसलिए चरणबद्व आंदोलन प्रांरभ कर दिया जिसमें प्रमुख मांगें हैं, संविदा कर्मचारियों का नियिमतीकरण , वेतनवृद्वि , सहायक यंत्री, उपयंत्री, परियोजना समन्वयक वित्त, जेण्डर, एम.आई.एस. एपीसी, आईडी, एम.आर.सी सहायक वार्डन का ग्रेड पे चेंज किया करते हुये वेतन विसंगति दूर की जाए। शिवपुरी, उज्जैन सहित 9 सहायक वार्डनों को हटाया गया है उनको वापस लिया जाए। संविदा कर्मचारियों को चिकित्सा प्रतिपूर्ति, अनुकंपा नियुक्ति, सामूहिक बीमे का लाभ दिया जाए , संविदा कर्मचारियों को वरिष्ठता के आधार पर समयमान वेतनमान ,क्रमोन्नती का लाभ दिया जाए, ईपीएफ कटोत्रा पहले के अनुसार किया जाए, ईपीएफ कटोत्रा में भेद - भाव समाप्त किया जाए , राज्य शिक्षा केन्द्र में कार्यरत सलाहकारों को संविदा पर लिया जाए।  

म.प्र. संविदा कर्मचारी अधिकारी महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष रमेश राठौर ने कहा है कि अब संविदा कर्मचारी अधिकारी महासंघ चरणबद्व आंदोलन करेगा जिसमें राज्य शिक्षा केन्द्र के संविदा कर्मचारियों के नियिमतीकरण, शिवपुरी जिले में अकारण सहायक वार्डनों को हटा दिया गया है उनकी वापसी सहित 12 अन्य सुत्रीय मांगों को लेकर सड़क से लेकर विधानसभा और न्यायलय तक आवाज पहुंचाई जायेगी। राज्य शिक्षा केन्द्र में हुयं प्रदर्शन में महामंत्री रमेश सिंह, गोपाल दुबे, सत्येन्द्र सिंह, राहुल श्रीवास, राहुल जैन, अनुप शांडिलय, सत्येन्द्र प्रसाद उपाध्यक्ष गोपाल दुबे, वैभव श्रीवास्तव, पंकज श्रीवास्तव, राजकुमार साकल्ले, नरेश कुशवाह, अरूण कुमार शर्मा, विजय जैन, नीलेश सटोके, पूरण सिंह आदि कर्मचारियों ने भाग लिया। कर्मचारियों से संबंधित महत्वपूर्ण खबरों के लिए कृपया MP karmchari news पर क्लिक करें.