MP TRIBAL- शिवपुरी में अधिकारी और क्लर्क गिरफ्तार, विद्यार्थियों के भोजन में भ्रष्टाचार का आरोप- HINDI NEWS

ग्वालियर
। लोकायुक्त पुलिस ने मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिला मुख्यालय पर कार्रवाई करते हुए आदिम जाति कल्याण विभाग के जिला संयोजक राजेश परिहार एवं ऑफिस क्लर्क अवधेश शर्मा को गिरफ्तार किया है। आरोप है कि दोनों आदिम जाति के विद्यार्थियों के लिए पौष्टिक भोजन के लिए सरकार द्वारा जारी बजट का 25% रिश्वत मांग रहे थे। ₹80000 रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया गया है। 

MP NEWS- शिवपुरी में 10% रिश्वत की परंपरा, अधिकारी ने ज्यादा मांगी इसलिए शिकायत हुई

शिकायतकर्ता छात्रावास अधीक्षक हेमराज सहरिया ने बताया कि शासकीय अनुसूचित जाति जनजाति पोहरी छात्रावास के लिए जारी शिष्यावृती के 4 लाख रुपए के बजट को जारी करने के लिए 20 प्रतिशत की मांग की थी। साथ में 20 हजार रुपए अतिरिक्त भी मांगे जा रहे थे। कुल मिलाकर ₹400000 स्वीकृत करने के बदले 1 लाख रुपए की मांग की थी। हेमराज सहरिया ने बताया कि इससे पूर्व इस बजट को जारी करने के लिए 10 प्रतिशत की रिश्वत देने की परंपरा थी लेकिन अब रिश्वत दुगनी मांगी जा रही थी।

सरकारी अधिकारी द्वारा रिश्वतखोरी की शिकायत करने शिवपुरी से ग्वालियर जाना पड़ा

अधीक्षक का कहना था कि शिष्यावृती की राशि छात्रावास के बच्चों के खाने पीने और अन्य सुविधाओं पर खर्च होती है। शासन के द्वारा 1380 रुपए का खर्च प्रति विद्यार्थी दिया जाता है। यदि 25% राशि रिश्वत में चली जाएगी तो बच्चों को क्या खिलाएंगे। इस कारण मैंने इस इस मामले की शिकायत 9 मार्च को ग्वालियर जाकर लोकायुक्त पुलिस में जाकर दी। लोकायुक्त पुलिस ने मेरी शिकायत का आवेदन लेते हुए एक रिर्काडर दिया और एक आरक्षक को मेरे साथ भेजा। मैने फिर इस रिश्वत की रकम का कम करने की बात आफिस के बाबू अवधेश शर्मा से की लेकिन वह नहीं माने। इस बातचीत की रिकॉर्डिंग की गई। 

शिवपुरी कलेक्ट्रेट में खुलेआम रिश्वत ली जा रही थी, लोकायुक्त ने गिरफ्तार किया

बताया जा रहा हैं कि आज तयशुदा समय पर रिश्वत की रकम ₹80000 लेकर छात्रावास अधीक्षक हेमराज सहरिया आदिम जाति कल्याण विभाग के शिवपुरी ऑफिस पहुंचा और बाबू अवधेश के पास जाकर यह रकम दी। उस समय विभाग के संयोजक राजेश परिहार भी बैठे हुए थे। जैसे ही रिश्वत के पैसे बाबू अवधेश शर्मा ने अपने हाथो में लिए वैसे ही लोकायुक्त पुलिस ने बाबू को रंगे हाथो पकड लिया। केमिकल टेस्ट क्लियर होने के बाद दोनों को गिरफ्तार किया गया और दोनों के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया। मध्य प्रदेश की महत्वपूर्ण खबरों के लिए कृपया mp news पर क्लिक करें.