MPPSC उम्मीदवार, भूख प्यास से व्याकुल, चोरी करते पकड़ा गया- HINDI NEWS

इंदौर।
मध्य प्रदेश के उज्जैन की नागझिरी पुलिस ने 38 साल के एक युवक को SBI ATM को तोड़ने की कोशिश करते हुए गिरफ्तार किया। पता चला है कि वह मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग परीक्षा की तैयारी कर रहा है। गुजारे के लिए मंदिर की दान पेटी से ₹700 चुराए थे। इस बार BANK ATM से पैसे चोरी करने की कोशिश कर रहा था। 

MPPSC की तैयारी करने वाला ब्राह्मण युवक, चोरी क्यों करने लगा 

पुलिस के अनुसार पकड़े गए चोर की कहानी बहुत ही मार्मिक है। पकड़ा गया युवक राजकुमार पाठक, सागर जिले की खुरई में रहने वाले श्री सुरेश कुमार पाठक का पुत्र है। कोरोनावायरस के कारण उसकी पत्नी की मृत्यु हो गई थी। बेटी नानी के पास रहती है। अच्छे भविष्य के लिए एमपीपीएससी की तैयारी कर रहा था। गुजर बसर करने के लिए पैसे नहीं थे। 

शुक्रवार को उसने चलती ट्रेन में 3 यात्रियों के मोबाइल फोन चोरी कर लिए थे। फिर उसका मन बदल गया। उसे लगाकर मोबाइल के बिना लोगों को बहुत परेशानी होगी। राजकुमार, यात्रियों को उनके मोबाइल फोन वापस करने चला गया। उसने बड़ी ईमानदारी से बताया कि उसे सिर्फ पैसे की जरूरत है, लेकिन यात्रियों ने कोई मदद नहीं की उल्टा पकड़कर पीटा और पुलिस के हवाले कर दिया। लिखित शिकायत नहीं की इसलिए पुलिस ने भी मारपीट करके छोड़ दिया। फिर उसने माधव नगर क्षेत्र में एक हनुमान मंदिर की दानपेटी तोड़कर उसमें से ₹700 चुराए। उसके मन में क्या चल रहा था पता नहीं लेकिन पुलिस ने उसे एटीएम मशीन खोलने की कोशिश करते हुए पकड़ा है। 

IPC के अनुसार अपराध लेकिन सामाजिक दृष्टि से सरकार जिम्मेदार 

भारतीय दंड संहिता के अनुसार किसी भी परिस्थिति में चोरी करना अपराध है, लेकिन उच्च शिक्षित नागरिकों को रोजगार के अवसर उपलब्ध ना कराने के लिए सरकार जिम्मेदार है। राजकुमार पाठक की समस्या यह है कि वह आरक्षित वर्ग से नहीं आता। एमपी पीएससी में भी उसे टफ फाइट करनी है। सरकार आरक्षित वर्ग की उन्नति के लिए तमाम योजनाएं बना रही है परंतु ब्राह्मणों का वोट बैंक कम है इसलिए मध्यप्रदेश में निर्धन ब्राह्मण बेरोजगारों के लिए कोई योजना नहीं है। मध्य प्रदेश की महत्वपूर्ण खबरों के लिए कृपया mp news पर क्लिक करें.