GWALIOR NEWS- कांग्रेस नेता का क्रेशर सील किया, समर्थकों के खिलाफ NSA के तहत कार्रवाई तय

ग्वालियर
। विरोध प्रदर्शन के दौरान सब इंस्पेक्टर दीपक गौतम जिंदा जलाने के प्रयास वाले मामले में पुलिस प्रशासन ने आरोपी कांग्रेस नेताओं की कुंडली खंगालना शुरू कर दिया है। इस प्रक्रिया में सबसे पहले अंबिका स्टोन क्रेशर को सील कर दिया गया। यह स्टोन क्रेशर कांग्रेस नेता सुनील शर्मा का बताया जा रहा है। 

प्रशासनिक सूत्रों ने बताया कि मंगलवार को सुनील शर्मा के बिलौआ स्थित क्रेशर को सील करने के साथ ही 20 लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया है। कलेक्टर ने खनिज अधिकारी प्रदीप भूरिया को बिलौआ भेजा था। भूरिया ने यहां अंबिका स्टोन क्रेशर की जांच की। यह क्रेशर कांग्रेस नेता सुनील शर्मा के नाम पर है। भूरिया के मुताबिक क्रेशर की लीज वर्ष 2018 के बाद रिन्युअल नहीं हुई, लेकिन मौके पर वह चालू मिला। इसके बाद ही यहां रखा सारा सामान जब्त कर क्रेशर सील कर दिया गया।

एसआई के सीने में गहरा घाव, दिल्ली किया रैफर

पुतला दहन के दौरान सोमवार को झुलसे एसआई दीपक गौतम के इलाज की एसएसपी अमित सांघी ने अस्पताल पहुंचकर चिकित्सकों से जानकारी ली। चिकित्सकों के अनुसार एसआई के सीने में गहरा घाव है। जिसके बाद बुधवार दोपहर 1 बजे सब इंस्पेक्टर दीपक गौतम को इलाज के लिए दिल्ली रैफर कर दिया गया है।

आरोपी कांग्रेस नेताओं के खिलाफ NSA की कार्रवाई तय

-सब इंस्पेक्टर के पुतला दहन के दौरान झुलसकर घायल होने के बाद से ही प्रशासन, खासकर पुलिस व राजस्व अमला काफी सक्रिय है। मंगलवार को अफसरों ने मंडी विवाद में अहम भूमिका निभाने वाले सात छोटे बड़े कांग्रेस नेताओं के काम धंधे, संपत्ति की जानकारी एकत्रित की। कलेक्ट्रेट में एडीएम, एसडीएम के साथ कलेक्टर ने कई बार चर्चा की, लेकिन कार्रवाई पर अंतिम निर्णय नहीं हो सका। एएसपी सतेंद्र तोमर ने बताया कि 307 के आरोपी नेताओं के अपराधिक प्रकरणों की संबंधित थानों से जानकारी एकत्र की जा रही है। एसएसपी अमित सांघी ने बताया कि रिकॉर्ड के आधार पर आरोपियों के रासुका का प्रतिवेदन बुधवार को तैयार किया जाएगा। संभावना है शिवराज यादव सहित दो अन्य के प्रतिवेदन तैयार किए जाएंगे। शिवराज पर पड़ाव व विश्वविद्यालय थाने में ही तीन प्रकरण दर्ज हैं। गिरफ्तार सभी पांच आरोपियों को जेल भेज दिया गया है। ग्वालियर की महत्वपूर्ण खबरों के लिए कृपया GWALIOR NEWS पर क्लिक करें.