लव मैरिज की मनोकामना पूरी करने वाला व्रत 4 मार्च को- INDIA के तीज त्यौहार

फाल्गुन महीने के शुक्ल पक्ष की द्वितीय तिथि को फुलेरा दूज कहा जाता है। भारत के व्रत एवं त्यौहारों में यह व्रत अपने आप में बिल्कुल अनूठा है। कहते हैं इस दिन राधा कृष्ण की आराधना करने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। इस दिन प्रेमी युगल लव मैरिज के लिए विशेष प्रकार से विधिपूर्वक व्रत एवं पूजा करते हैं। भारतीय पंचांग के अनुसार सन 2022 में फुलेरा दूज का त्यौहार दिनांक 4 मार्च 2022 को मनाया जाएगा। भगवान श्री कृष्ण के जन्म स्थान मथुरा में इसी दिन से होली के त्यौहार की शुरुआत होती है। ब्रज में फूलों से होली खेली जाती है। 

लव मैरिज एवं सुखी दांपत्य जीवन के लिए फुलेरा दूज के उपाय

- यदि किसी कारण से ब्रेकअप हो गया है या फिर विवाह के बाद दंपति का रिश्ता टूट गया है और उसे फिर से जुड़ना चाहते हैं तो फुलेरा दूज के दिन राधा कृष्ण की विधि पूर्वक पूजा करें एवं सुगंधित फूलों की माला अर्पित करें। मान्यता है कि ऐसा करने पर राधा कृष्ण की कृपा से टूटे हुए रिश्ते फिर से जुड़ जाते हैं।

- फुलेरा दूज के दिन स्नान कर साफ वस्त्र पहनें। फिर राधा-कृष्ण मंदिर में जाएं। भगवान को पीले पुष्प, मिठाई और पीले वस्त्र अर्पित करें। प्रेम विवाह यानी लव मैरिज की मनोकामना पूर्ति के लिए यह एक बहुत ही सरल एवं उत्तम उपाय है। 

- अगर किसी से बहुत प्यार करते है, लेकिन उसे प्रपोज नहीं कर पा रहे हैं। तो फुलेदा दूज के दिन श्रीकृष्ण मंदिर जाएं। वहां भोजपत्र पर पीले रंग के चंदन से उसका नाम लिखकर राधा-कृष्ण के चरणों में अर्पित कर दें एवं प्रार्थना करें। मान्यता है कि ऐसा करने पर आपकी भावनाएं, उस व्यक्ति तक पहुंच जाती हैं जिसे आप प्रपोज नहीं कर पा रहे।

- अगर वैवाहिक जीवन में तकलीफ बढ़ रही है या जीवनसाथ के साथ मनमुटाव रहता है। इस प्रॉब्लम को दूर करने के लिए भोजपत्र पर अपनी समस्या लिखें। वह राधा-कृष्ण के चरणों में अर्पित करें। ऐसा करने से जीवनसाथी से रिश्ते सुधरेंगे। धर्म और परंपराओं से संबंधित समाचारों एवं जानकारियों के लिए कृपया Hindi Jyotish Page पर क्लिक करें