MP TET VARG 3: आईवन पावलव के सिद्धांत की महत्वपूर्ण शब्दावली और आलोचनाएं

important terms of Ivan pavlov's theory and Criticism

आईवन पावलव ने बताया कि ने बताया कि शास्त्रीय अनुबंधन के सिद्धांत में डॉग पर किये गए प्रयोगों के आधार कुछ महत्वपूर्ण शब्दावली दीं। 
1. सामान्यीकरण (Generalization) - उन्होंने बताया कि किसी भी प्रकार घंटी बजाई जाए और परंतु खाना ना दिया जाए लेकिन फिर भी लार आती रहे तो इसे सामान्यीकरण कहा जाएगा। 

2. विभेदीकरण (Discrimination) - जब विभिन्न प्रकार की घंटियों की आवाज में और खाने की घंटी वाली आवाज में अंतर पता चल जाए तो यह विभेदीकरण कहलाएगा। 
3.  विलुप्तिकरण (Extinction) - जब बहुत समय तक खाना ना दिया जाए तो लार आनी  बंद हो जाती है, इसे विलुप्तिकरण कहा जाता है। 

4. सहज पुनःप्राप्ति (Spontaneous Recovery)- किसी भी आदत के विलुप्तिकरण होने के बाद, कई समय बाद वह आदत तुरंत वापस आ जाए, तो सहज पुनः प्राप्ति कहा जाता है। 

आईवन पावलव के सिद्धांत की आलोचनाएं- Critisism Of Ivan Pavlov's Theory

चूँकि पावलव ने व्यवहारवाद (Behavourism) पर अधिक जोर दिया और उनके सिद्धांत के अनुसार किसी को भी कुछ भी सिखाने के लिए आदत डलवाना जरूरी है। यह सिद्धांत छोटे बच्चों के लिए तो काफी उपयोगी है क्योंकि इसका उपयोग करके शिक्षक अपने विद्यार्थियों के व्यवहार में कुछ सीमा तक तो परिवर्तन ला सकते हैं परंतु इस सिद्धांत की कुछ आलोचनाएं भी हैं। 

1.इस सिद्धांत के द्वारा सीखी गई आदतें स्थाई नहीं होती।
2. उद्दीपक (Stimulus) के हटाने पर धीरे-धीरे सीखे गए कार्य भूले जाने लगते हैं। 
3. यह सिद्धांत छोटे बच्चों के लिए तो उपयोगी है परंतु किशोरावस्था के बच्चों के लिए यह ज्यादा उपयोगी नहीं है। 4.साधारण बुद्धि वाले बच्चों के लिए तो यह सिद्धांत उपयोगी है परंतु तीव्र बुद्धि वाले बच्चों के लिए यह उपयोगी नहीं है।
मध्य प्रदेश प्राथमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा के इंपोर्टेंट नोट्स के लिए कृपया mp tet varg 3 notes in hindi पर क्लिक करें.