MP NEWS- सरकारी डॉक्टर ने तड़पती महिला के बेटे को दौड़ा-दौड़ाकर डंडे से पीट

भोपाल
। सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों द्वारा मरीजों के परिजनों के साथ अभद्रता और हिंसा की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं। विदिशा जिले की गंजबासौदा शहर में डॉक्टर ने एक युवक को दौड़ा-दौड़ाकर डंडे से इसलिए पीटा क्योंकि उसने बीमारी से तड़प रही अपनी मां की इलाज के लिए डॉक्टर को आवाज लगा दी थी। 

डॉक्टर ने कहा- उन लोगों ने मुझे धमकी दी

इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। वीडियो में सरकारी अस्पताल परिसर में डॉक्टर डंडा लेकर युवक के पीछे दौड़ता हुआ और उसे पीटता हुआ दिखाई दे रहा है। इस मामले में आरोपी डॉक्टर धनेश मिश्रा का कहना है कि रविवार रात 12 बजे कपिल यादव और आकाश शर्मा ने अभद्रता की और फोन पर धमकाया। इसकी शिकायत लिखित रूप में पुलिस से की गई है। उन्होंने खुद को युवक कांग्रेस का कार्यकर्ता बताया था।

मां तड़प रही थी, आवाज लगाकर बुलाया तो विदिशा रेफर कर दिया- पीड़ित युवक

पीड़ित दीपक यादव ने बताया कि मां की तबीयत खराब हाेने पर उन्हें अस्पताल लेकर आया था। यहां काफी देर तक कोई डॉक्टर नहीं आया तो हम उन्हें तलाशने गए। इस दौरान मां को तकलीफ बढ़ गई। इस पर हम डॉक्टर को आवाज लगाने लगे। काफी बुलाने पर ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टर आए, लेकिन हम पर भड़क गए। उन्होंने मरीज को देखे बिना ही विदिशा जिला अस्पताल रैफर करने की बात कही। हमने कारण पूछा तो गाली देते हुए मारपीट पर उतारू कर दी। उन्होंने डंडे से हम हमला कर दिया। 

डॉक्टर के खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई तो कलेक्ट्रेट में धरना देंगे

पीड़ितों ने कलेक्टर के नाम नायब तहसीलदार दोजीराम अहिरवार को ज्ञापन सौंपा। इसमें डॉ. संकुल जैन पर आरोप लगाया कि उन्होंने ड्यूटी के दौरान नशे की हालत में मरीज का सही उपचार नहीं किया। परिजन ने विरोध किया तो उन्होंने वहां मौजूद डॉ. धनेश मिश्रा के साथ मिलकर हमला किया। उनके खिलाफ कार्रवाई की जाए। कार्रवाई नहीं हुई तो वे कलेक्ट्रेट पर धरना देंगे। 

BMO का नोटिस उसी की टेबल पर फाड़ कर फेंक दिया

बीएमओ डॉ. रविंद्र चिढ़ार ने संबंधित डॉक्टर धनेश मिश्रा को नोटिस जारी किया। नोटिस मिलने के बाद डॉ. मिश्रा बीएमओ के चैंबर में पहुंचे। नोटिस फाड़कर उनके टेबल पर फेंक दिया। बोले- कोई नोटिस नहीं मानता। जो करना है कर लेना। डॉ. मिश्रा की मूल पदस्थापना प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कुल्हार में है। वे अस्पताल परिसर के क्वार्टर में ही रहते हैं। डॉक्टरों की कमी के कारण उनको शासकीय राजीव गांधी जन चिकित्सालय में अटैच किया गया है।

CMHO ने कहा- वीडियो मिल गया है गंजबासौदा जा रहा हूं

गंजबासौदा BMO डॉ. रविंद्र चिढ़ार का कहना है कि वीडियो मिल गए हैं। इस संबंध में कार्रवाई की जा रही है। मुख्य जिला चिकित्सा अधिकारी को भी इस संबंध में पत्र लिखा जा रहा है।
CMHO डॉ. अखंड प्रताप सिंह का कहना है कि संज्ञान में मामला आया है। वीडियो भी आ गए हैं। खुद गंजबासौदा जा रहा हूं, मामले की जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी। गंजबासौदा एक महत्वपूर्ण जगह वहां के अस्पताल से काफी ग्रामीण क्षेत्र जुड़े हैं। वहां की व्यवस्था शीघ्र दुरुस्त की जाएगी। मध्य प्रदेश की महत्वपूर्ण खबरों के लिए कृपया mp news पर क्लिक करें


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here