INDORE NEWS- पढ़िए कहां पर गरबा होगा और कौन सा रद्द हो गया

इंदौर।
मध्य प्रदेश के भोपाल एवं इंदौर शहर में संक्रमित नागरिकों की संख्या 20 से अधिक है। इसके चलते भोपाल में गरबा, सामूहिक आरती एवं भंडारों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है लेकिन इंदौर में कलेक्टर ने शर्तों के साथ गरबा इवेंट की अनुमति दे दी। शर्तें कुछ इस प्रकार की है कि इंदौर शहर में प्रायोजित गरबा इवेंट्स रद्द कर दिए गए लेकिन राजनीतिक संरक्षण वाले गरबा कार्यक्रमों की तैयारी जारी है। आयोजकों ने प्रोटोकॉल के पालन का वचन दिया है।

दशहरा मैदान: रात 8:00 से 10:00 बजे तक

शहर में गत 23 वर्षों से होते आ रहे हिंद रक्षक गरबा महोत्सव के संयोजक लोकेंद्र सिंह राठौर ने बताया कि कोरोना गाइडलाइन का पालन किया जाएगा। केवल 40 प्रतिभागी गरबा रास करेंगे। दशहरा मैदान में गरबा कराने के लिए तैयारियां अंतिम चरण में हैं। यदि 10 बजे तक गरबा कराने की अनुमति है तो 8 से 10 बजे तक ही गरबा कराया जाएगा।

बियाबानी कैलादेवी मंदिर- 10:00 बजे तक गरबा खत्म करना असंभव

बियाबानी स्थित कैलादेवी मंदिर के बाहर होने वाले गरबे के लेकर कैलादेवी गरबा मंडल के संयोजक बाबू राजोरिया का कहना है कि यह संभव नहीं कि 10 बजे तक गरबा बंद कर दिया जाए। रात 8 बजे आरती और प्रसाद वितरण होने से गरबा शुरू होते-होते 9 बज जाते हैं। ऐसे में 10 बजे तक गरबा खत्म करना संभव नहीं है। इसलिए मंदिर में सांकेतिक रूप से गरबा किया जाएगा। 

काछी मोहल्लाः 1 दिन में जो हो सकता है वह करेंगे

काछी मोहल्ला में नवदुर्गा सांस्कृतिक समिति द्वारा गरबा महोत्सव आयोजित किया जाता है। समिति के संयोजक आदर्श यादव का कहना है कि प्रशासन ने अनुमति देने में देरी कर दी। एक दिन में ही गरबा रास की तैयारी करना मुश्किल है। प्रयास करेंगे कि आसपास की बालिकाओं को एकत्रित कर प्रतीकात्मक रूप से गरबा कराया जाए।

इंदौर में स्पॉन्सर्ड गरबा इवेंट बंद

मंगलवार को एलाइट एपेक्स सोसाइटी ने अपने गरबे की प्रैक्टिस बंद करा दी है। वहीं कई अन्य आयोजनकर्ताओ ने भी बुधवार से अपनी प्रैक्टिस बंद कर दी है। कुल मिलाकर ऐसे सभी गरवा कार्यक्रम निरस्त कर दिए गए हैं जिनमें बड़ी-बड़ी कंपनी प्रायोजक होती हैं एवं आयोजकों की एकमात्र शर्त 'भीड़' होती है।

इंदौर में नवरात्रि के भंडारे के बोर्ड लगे

जिला प्रशासन के पास यह जानकारी भी पहुंची है कि गरबों के अलावा अष्टमी और नवमी पर होने वाले भंडारे के आयोजन की तैयारी कर ली है। इसके संबध में बोर्ड भी लगा दिए गए हैं। लेकिन अभी तक कोई गाइड लाइन ही जारी नहीं हुई है। इस प्रकार के आयोजन में भी जमकर भीड़ उमड़ती है। जिससे भी कोरोना की गाइड लाइन का उल्लघंन होता है।


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here