61 सेकंड का एक मिनट किस साल में कब आता है, पढ़िए मजेदार जानकारी- GK in Hindi

लीप ईयर के बारे में तो अपन सब जानते ही हैं। हर 4 साल में 1 साल लीप ईयर होता है। इस साल फरवरी के महीने में 29 दिन और साल में 366 दिन होते हैं लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि लीप ईयर की तरह लीप सेकंड भी होता है। इस मिनट में 61 सेकंड होते हैं। यह हर 4 साल में नहीं आता परंतु अब तक 27 बार आ चुका है। लीप सेकंड की परंपरा सन 1972 से शुरू हुई थी। यह हमेशा या तो 30 जून या फिर 31 दिसंबर को जोड़ा जाता है। 27वी बार 31 दिसंबर 2016 को जोड़ा गया था।

लीप सेकंड क्यों जोड़ा जाता है, क्या धरती का क्षरण हो रहा है 

वैज्ञानिकों का कहना है कि धरती के घूमने की गति में बाधा उत्पन्न हो रही है। धरती को ठीक 24:00 घंटे में अपनी धुरी पर एक राउंड पूरा कर लेना चाहिए परंतु कभी-कभी डिस्टरबेंस आता है। वैज्ञानिकों के अनुसार चंद्रमा के कारण धरती का गुरुत्वाकर्षण बल प्रभावित होता है। जिसके कारण धरती, इंटरनेशनल अटॉमिक टाइम यानी TAI की 'टाइमिंग' से डिस्टर्ब हो जाती है।

कैसे पता चलता है कि धरती के घूमने की गति में अंतर आया है

इंटरनेशनल अटॉमिक टाइम यानी TAI के तहत सैकड़ों एटॉमिक घड़ियों के माध्यम से एटम्स के स्पंदन को मापा जाता है। इस प्रक्रिया के तहत सीजियम के एक सेकंड के हजारवें हिस्से की हलचल को भी भांप लिया जाता है। इंटरनेशलन अर्थ रोटेशन ऐंड रेफरेंस सिस्टम्स सर्विसेस (IERS) द्वारा लीप सेकंड की घोषणा की जाती है।

लीप सेकंड कितने साल बाद आता है 

इसकी शुरुआत सन 1972 में हुई थी। तब साल में दो बार लीप सेकंड जोड़ा गया। इसके बाद 7 साल तक प्रत्येक वर्ष 6 सेकंड जोड़े गए। जब घड़ी दुरुस्त हो गई तो फिर इसे लंबे समय के लिए ब्रेक दे दिया गया। 1998 से फिर यह प्रक्रिया शुरू हुई। इसका कोई साल या समय निर्धारित नहीं है। केवल तारीख निर्धारित है 30 जून अथवा 31 दिसंबर। एक अनुमान है कि इस साल 2021 में 31 दिसंबर को लीप सेकंड जोड़ा जाएगा। (इसी प्रकार की मजेदार जानकारियों के लिए जनरल नॉलेज पर क्लिक करें) Notice: this is the copyright protected post. do not try to copy of this article (general knowledge in hindi, gk questions, gk questions in hindi, gk in hindi,  general knowledge questions with answers, gk questions for kids, ) :- यदि आपके पास भी हैं कोई मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here