GWALIOR NEWS- बिरला हॉस्पिटल के डायरेक्टर समेत 6 के खिलाफ FIR

ग्वालियर।
कोरोनावायरस संक्रमित लोगों के इलाज के नाम पर प्राइवेट अस्पतालों में खुलेआम लूटपाट की गई। डॉक्टरों ने करोड़ों कमाए लेकिन अब समाज के सक्षम लोग उन्हें सबक सिखाने के लिए कदम उठा रहे हैं। बिरला हॉस्पिटल ग्वालियर के डायरेक्टर एसएस देसाई, GM गोविन्द देवड़ा सहित 6 लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी और लूट की FIR दर्ज की गई है। मामला उपभोक्ता फोरम के जज अरुण तोमर की पत्नी सरला तोमर की मृत्यु का है। 

BIMR GWALIOR- 10 दिन में 3.36 लाख का बिल

शहर के सचिन तेंदुलकर मार्ग स्थित एक पॉश टाऊनशिप निवासी अरुण तोमर उपभोक्ता फोरम में जज हैं। 19 अप्रैल को उन्होंने पत्नी सरला तोमर को कोविड पॉजिटिव आने पर बिड़ला हॉस्पिटल (BIMR) में इलाज के लिए भर्ती किया था। यहां 29 अप्रैल को उनकी पत्नी की मौत हो गई थी। मरीज की मौत के बाद अस्पताल प्रबंधन ने उन्हें 3.36 लाख रुपए का बिल दिया था। इसमें 25 हजार रुपए का डिस्काउंट कर उनसे 3.11 लाख रुपए जमा करा लिए गए थे। उस समय तो बिल की राशि जमा कर जज का परिवार सरला तोमर का शव लेकर चले चले गए।

पत्नी के सामान में से डायमंड की अंगूठी और आभूषण गायब थे

हॉस्पिटल प्रबंधन ने मरीज का सामान भी दो बैग में उनको दिया था, जिसे वह कार में रखकर ले गए। घटना के कुछ दिन बाद जब अरुण तोमर ने गाड़ी में से पत्नी का अस्पताल से मिला सामान निकाला तो गहने नहीं थे। पत्नी हाथ में दो अंगूठी पहने थी। एक में डायमंड लगा था। इसके अलावा भी अन्य गहने बैग में नहीं थे।

बिल में ₹74000 की फर्जी दवाइयां जोड़ दीं

पहले अस्पताल प्रबंधन से बात की। उन्होंने सहयोग नहीं किया तो इस मामले में 15 दिन बाद FIR कराई गई थी। इसके बाद जब उन्होंने हॉस्पिटल से सारे बिल निकलवाए और उनका मिलान ट्रीटमेंट शीट से किया तो पता चला कि अस्पताल प्रबंधन ने फर्जी बिल बनाकर उनसे 74 हजार रुपए की धोखाधड़ी की है। इसका पता चलते ही उन्होंने थाने में शिकायत की। जांच के बाद बिड़ला हॉस्पिटल (BIMR) के GM गोविन्द देवड़ा, डायरेक्टर एसएस देसाई व सीनियर एक्जीक्यूटिव वरिष्ठ कार्यपालक अधिकारी वेद प्रकाश पाण्डे व तीन अन्य के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया है।

मेडिकल स्टोर से दवाई मंगवाई परंतु मरीज को नहीं दी गई

जब जज अरुण तोमर ने अस्पताल से मिले बिल, ट्रीटमेंट शीट का मिलान किया तो उसमें 6 रेमडेसिविर इंजेक्शन लगाने बताए गए। प्रत्येक इंजेक्शन की कीमत 2,450 रुपए रुपए लगाई गई, जबकि मरीज को 6 इंजेक्शन लगे ही नहीं। हॉस्पिटल के मेडिकल से जो दवाएं मरीज को देना बताया गया, उसका ट्रीटमेंट शीट में कहीं जिक्र तक नहीं है। एक-एक कर उन्होंने दवाओं और इंजेक्शन का डेटा एकत्रित किया तो लगभग 74 हजार रुपए अधिक बिल में जोड़े सामने आए।

जांच की जा रही है
इस मामले में मरीज की मौत के बाद बिलों में हेरफेर की शिकायत पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया है। जांच की जा रही है कि किसकी क्या भूमिका है। जांच में जो भी तथ्य निकलकर आएंगे, उसी आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।
विनय शर्मा, TI थाना, गोला का मंदिर

19 सितम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

मध्य प्रदेश मानसून- 7 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट, 5 संभागों में रिमझिम होती रहेगी
MP NEWS- चयनित शिक्षकों की नियुक्ति के लिए हलचल तेज
MP BOARD- लो सिलेबस में भी संशोधन, त्रैमासिक परीक्षा के लिए, यहां पढ़िए
MP CPCT स्कोरकार्ड की वैधता वाला आदेश जारी, यहां पढ़िए
BHOPAL NEWS- शासकीय उचित मूल्य दुकान के लिए आवेदन बुलाए
MP NEWS- अमित शाह के कार्यक्रम में मंत्री विजय शाह का हाई वोल्टेज ड्रामा
MP NEWS- महिला डांसर के साथ शिक्षक के ठुमके वायरल
MP BOARD- त्रैमासिक परीक्षा का सिलेबस जारी, यहां पढ़िए
GWALIOR NEWS- कलेक्टर और सीएमएचओ के बीच विवाद, डॉ मनीष ने इस्तीफा दिया
CTET REGISTRATION NEWS - नोटिफिकेशन जारी, परीक्षा की तारीख घोषित
MP NEWS- लोकायुक्त को देखते ही नोटों की गड्डी फेंककर भागा डिप्टी रेंजर, गिरफ्तार

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiघड़ी की सुई उत्तर से दक्षिण क्यों घूमती है जबकि सूर्य पूर्व से पश्चिम जाता है
GK in Hindiशिवलिंग पर जल क्यों चढ़ाते हैं, कोई वैज्ञानिक कारण है या बस परंपरा
GK in Hindiशेरों के शिकार की परंपरा क्यों बनाई, उसका तो मांस भी नहीं खाया जाता
GK in Hindiगेहूं की रोटी में हवा कैसे भर जाती है, ज्वार और मक्का की रोटी में क्यों नहीं भरती
GK in Hindiजब अमेरिका 110V बिजली से जगमगाता है तो भारत में 220V बिजली सप्लाई क्यों की जाती है
GK in Hindiदुनिया की पहली डामर रोड कहां और कब बनी थी
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here