GWALIOR: अधिकारी का बेटा लड़की फंसाने गया था, खुद फंस गया, कॉलेज स्टूडेंट्स जरूर पढ़ें - MP NEWS

ग्वालियर
। लाइफ को खेल समझने वाले कॉलेज के लड़के-लड़कियों की लाइफ कई बार सच में खेल बन जाती है। रजिस्ट्रार ऑफिस में काम करने वाले एक अधिकारी के 20 वर्षीय बेटे की लाइफ से इन दिनों दिल्ली की एक लड़की खेल रही है। अधिकारी के बेटे ने टाइम पास करने के लिए डेटिंग ऐप डाउनलोड किया था, लड़की ने उसकी लाइफ में ऐसा वायरस डाला की सारी खुशियां डिलीट हो गई। इज्जत बचाने के लिए पूरा परिवार पुलिस की शरण में है।

लॉकडाउन में टाइमपास करने डेटिंग एप डाउनलोड किया

घटना बहोड़ापुर थाना क्षेत्र के आनंद नगर इलाके की है। ग्वालियर में रहने वाले पंजीयन विभाग के एक अफसर का 20 वर्षीय बेटा कॉलेज स्टूडेंट है। 7 दिन पहले उसे एक डेटिंग एप की लिंक मोबाइल पर आई। उसने एप डाउनलोड किया। अपना प्रोफाइल बनाया। इसके बाद उसके पास एक सिमरन नाम की युवती की ओर से चैट के लिए मैसेज आया। सिमरन ने छात्र से दोस्ती में रूचि दिखाई, साथ ही खुद को दिल्ली में मॉडल बताया। 

पहले ही वीडियो चैट में लड़की ने कपड़े उतार दिए

सिमरन के प्रोफाइल पर जो फोटो लगा था वह कहीं समुद्र तट पर फोटोशूट का था। इस पर छात्र उससे बात करने लगा। अगले दिन मॉडल ने उससे वीडियो चैट के लिए बात की। छात्र भी तैयार हो गया। वीडियो कॉल पर चैट शुरू हुई। अभी बात शुरू हुई थी कि वीडियो में मॉडल ने अपने कपड़े उतारना शुरू कर दिए। यह देखकर छात्र घबरा गया। उसने कॉल कट कर दिया।

नए वीडियो में अधिकारी का बेटा भी न्यूड दिख रहा है

वीडियों कॉल कट करने के कुछ देर बाद छात्र के मोबाइल पर एक वीडियो आया। इसमें युवती के साथ वह भी अश्लील वीडियो चैट करता दिख रहा था। लड़के का कहना है कि ऐसा कुछ हुआ ही नहीं था। वह वीडियो एडिट किया हुआ है। अब मॉडल ब्लैकमेल कर रही है कि वह यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर देगी। इतना ही नहीं दिल्ली पुलिस से शिकायत की बात भी कह रही है।

चेहरे पर दहशत देख परिवार ने साथ दिया

छात्र ने युवती का नंबर ब्लॉक लिस्ट में डाल दिया। अभी दो दिन पहले युवती ने एक दूसरे नंबर से कॉल किया। अब वह उसे बदनाम करने की धमकी दे रही है। छात्र काफी घबराया हुआ है। उसकी यह हालत देखकर परिजन ने उससे कारण पूछा तो सारी बात सामने आई है। अब इस मामले में पीड़ित परिवार ने साइबर सेल में मामले की सूचना दी है।

Conclusion of NEWS 

इस समाचार का आशय यह नहीं है कि उस अधिकारी या उसके बेटे का मजाक उड़ाया जाए बल्कि यह है कि बड़े हो रहे बच्चों को यह बताया जाए कि हर किसी लिंक को क्लिक नहीं करना चाहिए नहीं तो कभी-कभी लाइफ में से खुशियों की फाइल डिलीट हो जाती है जो जिंदगी में कभी रिकवर नहीं होती।


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here