Loading...    
   


BHOPAL सब इंस्पेक्टर की कोरोना से मौत, जब तक रिपोर्ट आई- हालत बिगड़ चुकी थी

भोपाल
। एक बार फिर मध्यप्रदेश की घटिया चिकित्सा सेवाओं के कारण एक व्यक्ति की असमय मृत्यु हो गई। मध्य प्रदेश पुलिस के सब इंस्पेक्टर मोहन पटेल भोपाल के गांधी नगर पुलिस थाने में पदस्थ थे। ऑन ड्यूटी संक्रमित हो गए थे। जब तक जांच रिपोर्ट आती, उनकी हालत बिगड़ चुकी थी। उल्लेखनीय है कि सब इंस्पेक्टर मोहन पटेल 2 महीने बाद जून 2021 में रिटायर होने वाले थे।

समय पर आ जाती रिपोर्ट तो बच सकती थी जान

सब इंस्पेक्टर मोहन पटेल की जान बच सकती थी, लेकिन सुस्त पड़े हेल्थ सिस्टम की वजह से उनकी रिपोर्ट में काफी देरी हुई और जब उनकी हालत बिगड़ने लगी तब रिपोर्ट आई। उसके बाद उन्हें कोरोना गाइडलाइन के तहत ट्रीटमेंट किया गया। टीआई शर्मा ने बताया कि 10 अप्रैल को एसआई मोहन को बुखार आया था। जब जांच कराई गई तो रेपिड एंटीजन टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव आई। उनके स्वास्यि में जब कोई सुधार नहीं आया तो 15 अप्रैल को आरटीपीसीआर टेस्ट कराया गया। लेकिन 3 दिन बीत जाने के बाद भी कोई रिपोर्ट नहीं आई। 

बुखार आने के 12 दिन बाद मिली पॉजिटिव रिपार्ट 

10 अप्रैल को बुखार आने के बाद लगातार जांच कराई लेकिन रिपोर्ट नहीं आई। आखिरकार 18 अप्रैल को टेस्ट कराया गया, जिसकी रिपोर्ट 22 अप्रैल को आई। यानी 10 अप्रैल से 12 दिनों के बाद 22 अप्रैल को आई रिपोर्ट में कोरोना की पुष्टि हुई। जिसके बाद उन्हें तत्काल चिरायु अस्पताल में भर्ती कराया गया। टीआई शर्मा ने बताया कि मोहन पटेल किडनी के इंफेक्शन से भी जूझ रहे थे। अस्पताल में भर्ती होने के बाद उन्हें 2 दिनों तक डायलिसिस पर भी रखा गया और आज उनकी हार्ट अटैक से मौत हो गई। 

लगातार संपर्क में था परिवार

कोरोना से जंग हार चुके मोहन यादव के परिवार के सदस्य लगातार उनके साथियों के संपर्क में थे। चूंकि उनकी बेटी विदेश में और दोनों बेटों में एक पुणे व एक इंदौर में जॉब करते हैं। इसलिए पुलिस की टीम के सदस्य मोहन पटेल के बच्चों व पत्नी के संपर्क में लगातार बने हुए थे। मोहन पटेल के निधन की जानकारी उनके परिजनों को दे दी गई। 


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here