Loading...    
   


BF को फंसाने के लिए BCom की छात्रा ने गैंगरेप और किडनैपिंग की फर्जी FIR दर्ज कराई - INDORE CRIME NEWS

इंदौर
। कोचिंग क्लास से लौट रही 19 वर्षीय छात्रा का बीच रास्ते में अपहरण, गैंगरेप और जिंदा जलाने की कोशिश वाला मामला फर्जी निकला। छात्रों ने पूरी कहानी अपने बॉयफ्रेंड को फंसाने के लिए रची थी। 19 साल की शादीशुदा लड़की इससे पहले भी 4 मामले दर्ज करवा चुकी है। लड़की का कहना है कि वह सुसाइड करने जा रही थी लेकिन रेलवे ट्रैक के पास पहुंचकर उसका मन बदल गया और उसने लड़कों को फंसाने की प्लानिंग की।

आइजी हरिनारायणाचारी मिश्र के मुताबिक मामले में अब रिपोर्ट खारिज की जाएगी और कोर्ट में छात्रा के विरुद्ध इस्तगाशा पेश होगा। परदेशीपुरा निवासी 19 वर्षीय छात्रा ने मंगलवार सर्वहारा नगर निवासी अक्षय सहित पांच युवकों पर गंभीर आरोप लगाए थे। उसने बताया था कि उसे कोचिंग से लौटते समय सरेआम किडनैप किया गया। 5 लड़कों ने रेलवे ट्रैक के पास उसके साथ गैंगरेप किया और फिर एक बोरे में भरकर जिंदा जलाने की कोशिश की।

सिर्फ बलात्कार की झूठी कहानी नहीं बल्कि झूठे सबूत भी बनाए

बाणगंगा और परदेशीपुरा थाना के पुलिस अफसरों ने रातभर जांच कर पता किया तो इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि छात्रा झूठ बोल रही है। बुधवार शाम छात्रा, उसके पति, भाई और मां से अलग-अलग बयान लिए तो वह टूट गई और कहा मुझसे गलती हो गई। मैं अवसाद में थी और आत्महत्या करने की ठानकर घर से निकली थी। रेलवे ट्रैक पर पहुंचने पर इरादा बदल गया और केरोसिन खरीदकर शरीर पर उड़ेल लिया। बैग में रखें कटर से शरीर पर घाव बनाए और अक्षय और उसके साथियों पर आरोप लगा दिया।

कैसे पता चला किडनैपिंग और रेप की घटना झूठी है

एएसपी शशिकांत कनकने, सीएसपी निहित उपाध्याय फोरेंसिक अफसरों को लेकर घटना स्थल पर पहुंचे। वहां उस व्यक्ति से पूछताछ की जिसके फोन से कॉल किया था। उसने कहा कि मैंने लड़की को सामान्य अवस्था में आते देखा था। इसके बाद पाटनीपुरा से लेकर रेलवे ट्रैक तक के 50 से ज्यादा सीसीटीवी कैमरों के फुटेज निकाले। उसमें छात्रा खुद ही जाते दिखाई दी। देर रात अक्षय भी घर मिल गया। उसने बताया वह डमरु उस्ताद का अखाड़ा, रणजीत हनुमान मंदिर और दोस्त के घर पर ही था। पुलिस को उसके सब जगहों पर फुटेज मिल गए। इससे छात्रा पर ज्यादा शक गहराया गया।

मां और पति से मशवरा करके मामला दर्ज कराया था

एसआइ श्रृद्धा पवार और एसआइ रेखा चौधरी ने एमवाय अस्पताल में बयान लिए तो अलग-अलग बातें बताई। पहले कहा दुष्कर्म हुआ है। बाद में कहा उसे स्पष्ट नहीं कि उसके साथ दुष्कर्म हुआ है या नहीं। रिपोर्ट लिखवाने में भी छात्रा ने मां और पति ने मशविरा किया। आखिर में वह समझ गई कि पुलिस ने सच जान लिया है। बुधवार शाम उसने कहा मेरे साथ घटना नहीं घटी है। वह तो आत्महत्या करने जा रही थी। अचानक इरादा बदल गया और झूठी कहानी बना ली। 

अमित नाम के लड़के पर 3 केस दर्ज करा चुकी है

एएसपी के मुताबिक छात्रा पूर्व में भी अमित नामक युवक पर तीन केस दर्ज करवा चुकी है। अक्षय से भी उसका परिचय था। लॉकडाउन के दौरान दोनों की मुलाकात हुई थी। उसे शक था कि उसका अश्लील वीडियो है। इसी अवसाद में उसने पूरा षड़यंत्र रच लिया।



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here