Loading...    
   


कर्मचारी की कर्मनिष्ठा: बर्ड फ्लू का सैंपल पहुंचाने 350 किलोमीटर बाइक चलाई - MP EMPLOYEE NEWS

भोपाल
। ज्यादातर लोग मानते हैं कि कर्मचारी कामचोर होते हैं। घूसखोर होते हैं और बदतमीज भी होते हैं, कई मामलों में यह धारणा सही साबित होती है परंतु सभी कर्मचारी ऐसे नहीं होते। कुछ कर्मचारी कर्मनिष्ठ भी होते हैं। पृथ्वीपुर के सहायक पशु चिकित्सा क्षेत्राधिकारी श्री आरपी तिवारी का नाम मध्य प्रदेश के सर्वश्रेष्ठ कर्मनिष्ठ कर्मचारियों की लिस्ट 2021 में पहले नंबर पर दर्ज हो गया है। उन्होंने बर्ड फ्लू का सैंपल पहुंचाने के लिए 350 किलोमीटर बाइक चलाई। जबकि यह उनकी ड्यूटी नहीं थी। उनके बेटे ने भी इस काम में उनका साथ दिया।

मुख्यमंत्री और पशुपालन मंत्री ने आरपी तिवारी की प्रशंसा की

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान और पशुपालन मंत्री श्री प्रेमसिंह पटेल ने निवाड़ी जिले के पृथ्वीपुर से मृत पक्षियों के सेम्पल पुत्र के साथ मोटरसाइकल पर भोपाल स्थित राज्य पशुरोग अन्वेषण प्रयोगशाला पहुँचाने वाले सहायक पशु चिकित्सा क्षेत्राधिकारी श्री आर.पी. तिवारी की प्रशंसा की है। मंत्री श्री पटेल ने कहा कि बिना किसी सुविधा का इंतजार किये जिस तरह श्री तिवारी ने बर्ड फ्लू महामारी के नियंत्रण के लिये अविलम्ब भोपाल लैब को सेम्पल पहुँचाये हैं, यह प्रदेश ही नहीं देश के लिए भी अनुकरणीय मिसाल बन गई है।

बस छूट गई, ट्रेन में रिजर्वेशन नहीं मिला, कड़ाके की ठंड में बेटे ने इनकार नहीं किया

उल्लेखनीय है कि बीते शुक्रवार को निवाड़ी जिले के सोरका गाँव में दो दर्जन से ज्यादा चिड़ियाँ मृत पाईं गई थीं। पशु चिकित्सा विभाग के अधिकारियों ने मौके पर पहुँच कर सेम्पल एकत्र किये। कार्यवाही पूरी होने के बाद सेम्पल जाँच के लिय भोपाल भेजने की जिम्मेदारी पृथ्वीपुर के सहायक पशु चिकित्सा क्षेत्राधिकारी श्री आर.पी. तिवारी को दी गई। श्री तिवारी ने बस का टिकिट बुक कराया परंतु जब तक वे बस स्टेण्ड पहुँचे बस निकल चुकी थी। उन्होंने इसके बाद झाँसी से रेल टिकिट रिजर्वेशन का प्रयास किया लेकिन टिकिट नहीं मिला। उन्होंने शनिवार की सुबह बेटे से बाइक चलाकर भोपाल चलने को कहा। कड़ाके की ठंड और बारिश के कारण पिता-पुत्र को कई स्थानों पर रूकना पडा। श्री तिवारी आज ने सुबह ही भोपाल में सेम्पल जमा करा दिया।

अब तक 18 जिलों में बर्ड फ्लू की पुष्टि

प्रदेश में अब तक 18 जिलों इंदौर, मंदसौर, आगर, नीमच, देवास, उज्जैन, खंडवा, खरगौन, गुना, शिवपुरी, राजगढ़, शाजापुर, विदिशा, भोपाल, होशंगाबाद, अशोकनगर, दतिया और बड़वानी में कौवों और जंगली पक्षियों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हो चुकी है। प्रदेश के विभिन्न जिलों से 328 सेम्पल राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा रोग अनुसंधान प्रयोगशाला (एनआईएचएसएडी) जाँच हेतु भेजे जा चुके हैं। अलीराजपुर जिले से भेजे गये नमूनों में बर्ड फ्लू वायरस नहीं पाया गया है। सभी जिलों में रोग नियंत्रण की कार्यवाही राज्य और केन्द्र शासन द्वारा जारी एडवाइजरी के अनुसार की जा रही है।

10 जनवरी को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here