Loading...    
   


बिना कोचिंग IAS बनने के लिए क्या करें, UPSC EXAM कैसे क्लियर करें, टॉपर ने बताया - UPSC TIPS IN HINDI

पहले संख्या बहुत कम थी लेकिन अब भारत की लगभग हर ग्राम पंचायत से एक न एक उम्मीदवार UPSC- संघ लोक सेवा आयोग परीक्षा की तैयारी करता है। हर उम्मीदवार आईएएस बनना चाहता है और यूपीएससी एग्जाम क्लियर करने के लिए ही पढ़ाई करता है लेकिन सफलता हर किसी को नहीं मिलती। मजेदार बात तो यह है कि सफलता के टिप्स देने वालों को भी इस परीक्षा में कई बार सफलता नहीं मिलती। इसलिए हम आपको एक टॉपर लड़की से मिलाने जा रहे हैं जिसने बिना कोचिंग की यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन की परीक्षा को पास किया और आज भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी है। आइए Pooja Elangabam से जानते हैं कि बिना कोचिंग की यूपीएससी की परीक्षा कैसे पास की:-

सबसे पहले Pooja Elangabam का परिचय 

पूजा किसी गरीब पिता की बेटी नहीं है बल्कि उसके पिता भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी हैं। 
पूजा को देश की सबसे अच्छी कोचिंग की महंगी फीस देने में कोई समस्या नहीं थी। 
जब पूजा ने परीक्षा की तैयारी की और आईएएस बनी तब वह मणिपुर राज्य के इंफाल जिले में सब डिविजनल मजिस्ट्रेट के रूप में तैनात थी। 
बताने की जरूरत नहीं कि एसडीएम एक ऐसी पोस्ट होती है, जिसमें सबसे ज्यादा तनाव बना रहता है बावजूद इसके पूजा ने पढ़ाई के लिए समय निकाला।
पूजा ने यूपीएससी एग्जाम 2018 में 81वीं रैंक हासिल की है।

बिना कोचिंग की UPSC की परीक्षा कैसे पास की, पूजा ने क्या बताया

पूजा कहती हैं की UPSC सिविल सेवा एक कठिन और लम्बी परीक्षा है। इसलिए उम्मीदवारों को इस कारण का पता लगाने की आवश्यकता होगी कि वे परीक्षा में क्यों आना चाहते हैं। 
हर बार जब वे खुद को कन्फ्यूज़न में पाएं तो अपने इस उद्देश्य को याद करें। इससे ना केवल तैयारी में मोटिवेशन मिलेगी बल्कि असफल होने पर निराशा भी महसूस नहीं होगी। 
"परिवार और सहकर्मी के दबाव के कारण परीक्षा लिखना आकांक्षी के लिए फायदेमंद नहीं होगा। ज़रूरी है की आप खुद इस परीक्षा के लिए मानसिक रूप से तैयार हों।"
अपने डाउट क्लियर करने में संकोच न करें। मदद मांगना अच्छी बात है और गर्व के साथ सवाल करें। 
यूपीएससी परीक्षा के टॉपर्स के ब्लॉग नियमित रूप से पढ़ते रहें। 

UPSC EXAM क्लियर करने के लिए सबसे जरूरी बात क्या है

सबका अपना अलग पढ़ने का ढंग है। इसीलिए अपना टाइम टेबल अपने हिसाब से बनाये और किसी और के शेड्यूल को कॉपी न करें। 
आप एक दिन में कितने घंटे पढ़ रहें है ये महत्वपूर्ण नहीं है बल्कि आप एक दिन में कितना सिलेबस पढ़ रहें हैं इसका ध्यान रखना आवश्यक है। 
यदि आप पूरा सिलेबस पढ़ने के बाद मॉक टेस्ट देंगे तो तब तक काफी देर हो जाएगी। 
जब भी कोई विषय पूरा हो आप मॉक टेस्ट ज़रूर दें। 

तैयारी के दौरान अक्सर अभ्यर्थी को हताशा महसूस होती है ऐसे में यदि आपको सही मोटिवेशन मिले तो आप आसानी से उस फेज़ से बाहर आ सकते हैं। इसलिए खुद को अकेला ना करें और अपने परिवार और मित्रों से बात करते रहे। 
ज़रूरी नहीं आपको पहली परीक्षा में सफलता मिलेगी ही। इसलिए परीक्षा की तैयारी एक सीख के तौर पर करें। 
सिविल सेवा परीक्षा का सिलेबस काफी विस्तारित है और यह ज़रूरी नहीं की आप सब याद रख सकें। इसलिए रिवाइज़ करते रहे परन्तु कुछ भूल जाने पर परेशान ना हों। 
यह परीक्षा केवल मेहनत और लगन से ही पास की जा सकती है। इसलिए अपना उद्देश्य याद रखें। 


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here