Loading...    
   


हद कर दी! तीन महीने से बंद दुकान का बिजली बिल 11649 रुपए / BHOPAL NEWS

भोपाल। बिजली कंपनियां तो खुली लूट पर उतर आईं हैं। मनमाने बिल भेज रहीं हैं। यदि आप पॉवरफुल नहीं हैं तो बिल में संशोधन भी नहीं होता। बातचीत के दौरान आवाज तेज हो जाए तो FIR करवा देते हैं। कारपेंटर प्रहलाद विश्वकर्मा की दुकान तीन महीने से बंद है लेकिन कंपनी ने 11649 रुपए का बिल थमा दिया। अब प्रहलाद विश्वकर्मा का ब्लडप्रेशर बढ़ रहा है। रोजीरोटी छोड़कर कभी कंपनी, कभी कलेक्टर तो कभी पत्रकारों के पास दौड़ रहा है। पूरा परिवार तनाव में है।

अधिकारियों का दावा जो बिल दिए सब सही हैं

यह अकेले प्रहलाद विश्वकर्मा की ही समस्या नहीं है, बल्कि और भी उपभोक्ता हैं जो कह रहे हैं कि उनके घर खपत से अधिक का बिल आया है। इस पर बिजली कंपनी के अधिकारियों का कहना है कि लॉकडाउन की वजह से घरेलू खपत बढ़ गई है, इसलिए बिल की राशि बढ़ी है। उपभोक्ताओं को वास्तविक खपत के ही बिल बांटे जा रहे हैं। फिर भी कोई सुधार की जरूरत होगी तो करेंगे।

बता दें कि बिजली कंपनी शहर में मई की बिजली खपत के बिल बांट रही है। कटारा हिल्स, कोलार, सेमरा, भेल, अयोध्यानगर आदि क्षेत्र में बिलों का वितरण शुरू हो गया है। जिन उपभोक्ताओं को बिल मिले हैं, उनमें से कुछ का कहना है कि उनके घर खपत से अधिक के बिल आए हैं, जो कि चिंता की बात है।

अप्रैल का बिल 332 रुपए था, मई को 11649 रुपए

कारपेंटर प्रहलाद विश्वकर्मा बागमुगालिया एक्सटेंशन कॉलोनी में रहते हैं। उनका कहना है कि गर्मी में कूलर चलाते हैं, तब पंखा बंद रखते हैं। जब पंखा चलाते हैं तब कूलर बंद रखते हैं। फिर भी 11 हजार 649 रुपय का बिल दिया है। जबकि, अप्रैल महीने में उसने 332 रुपये जमा किए हैं।

केस 2 : 15 दिन पहले किश्त पर कूलर खरीदा था

कटारा हिल्स क्षेत्र में रहने वाले राजेश बरपे कहते हैं कि उन्होंने 15 दिन पहले किश्तों में कूलर खरीदा है। उसके पहले पंखा चलाते थे। फ्रिज भी चलता है। बीते साल गर्मी में भी इतना बिल नहीं आया था। बीते महीने 186 रुपये जमा किए हैं और मई का बिल 1712 रुपये दे दिया है।

केस 3 : एक महीने में 1100 से 7000 हो गया बिल

लहारपुर क्षेत्र में रहने वाले उमेश ठाकुर ने बताया कि अप्रैल महीने में उसने 1100 रुपये ऑनलाइन जमा किए थे। जबकि, मई का बिल 6 हजार 988 रुपये आया है। घर में टीवी, फ्रिज व पंखे के अलावा दूसरे उपकरण नहीं चला रहे हैं, तब भी ज्यादा बिल आ गया है। कंपनी को कम करना चाहिए।

केस 4 : बिल कम करने की बजाय बढ़ाकर दे दिया

शक्ति नगर में रहने वाले सोहनलाल ओझा के घर में अप्रैल माह का बिल 150 रुपये आया था। मीटर खराब होने के बाद भी बिला आया तो उन्होंने नए मीटर से रीडिंग लेने के लिए ऑनलाइन आवेदन किया। जिसमें सुधार करने के बजाय उन्हें 2164 रुपये का बिल दे दिया।

कंपनी का कुतर्क: लॉकडाउन में लोगों ने ज्यादा बिजली खर्च की

लॉकडाउन था, लोग घरों में थे। इस बीच गर्मी भी बढ़ गई। कूलर, पंखे व फ्रिज का उपयोग बढ़ा है, इसलिए घरेलू खपत बढ़ गई है। जिन उपभोक्ताओं को लगता है कि उनके बिल खपत से अधिक आए हैं तो उनकी जांच कराई जाएगी। दोबारा रीडिंग देखेंगे। वैसे रीडिंग लेने के बाद ही बिल दिए गए हैं। जहां सुधार करने की जरूरत होगी, वहां सुधार भी करेंगे।
-एपी सिंह, जीएम सिटी सर्किल मप्र मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी, भोपाल


04 जून को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

छतरपुर में युवा कर्मचारी ने CMO की पत्नी को गोलियां मारीं, घटना के समय दोनों घर में अकेले थे
दुनिया में जब रेजर नहीं थे, लोग सेविंग कैसे करते थे
CBSE 12th EXAM NOTIFICATION जारी, यहां पढ़िए
SSC EXAM 2020 DATE घोषित, शेड्यूल जारी / SSC EXAM 2020 TIMETABLE
शिवलिंग गोल होते है, फिर आधी परिक्रमा क्यों करते हैं
सिंधिया के सवाल पर तोमर ने कहा: भाजपा किसी को पचाने में सक्षम है
राजेंद्र शुक्ला ने सोनू सूद के बहाने शिवराज सिंह के गाल पर तमाचा मारा
बर्फ ठंडी होती है, फिर उसमें से भाप क्यों निकलती है
मध्य प्रदेश के 16 जिलों में तूफानी बारिश का अलर्ट जारी
PNB सेविंग अकाउंट होल्डर के लिए बुरी खबर
आम रास्ते में रुकावट पैदा करने वाले के खिलाफ किस धारा के तहत FIR दर्ज होती है
भोपाल में देह व्यापार अनलॉक, 5 लड़कियों के साथ सीहोर का किसान गिरफ्तार
जबलपुर में DTH की छतरी ने ली महिला की जान
जब खून लाल है तो नसों का रंग नीला क्यों होता है
धूम्रपान करने वालों के खिलाफ IPC की किस धारा के तहत FIR दर्ज होगी, क्या आप जानते हैं
भोपाल में लॉकडाउन 5.0 मिली छूट का परिणाम: 3 दिन में 145 नए कोरोना पॉजिटिव
दिवालिया बैंक में पैसा डूब जाता है तो क्या लिया गया LOAN भी नहीं चुकाना पड़ता
भारत के TOP-10 मुख्यमंत्रियों की लिस्ट में शिवराज सिंह चौहान का नाम नहीं है
मध्य प्रदेश के कॉलेज स्टूडेंट्स अपनी लोकेशन भेजें: उच्च शिक्षा विभाग


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here