Loading...    
   


मध्यप्रदेश में स्कूल और कॉलेज के स्टूडेंट्स परीक्षा देने को तैयार नहीं / MP NEWS

भोपाल। मध्यप्रदेश शासन के उच्च शिक्षा विभाग एवं माध्यमिक शिक्षा मंडल, मध्य प्रदेश ने UG-PG EXAM और 12th हायर सेकेंडरी के बचे हुए पेपर कराने का फैसला लिया है। तारीखें घोषित कर दी गई है। एमपी बोर्ड ने तो संशोधित टाइम टेबल भी जारी कर दिया है लेकिन जैसे-जैसे परीक्षा की तारीख नजदीक आ रही है स्टूडेंट्स भड़कते जा रहे हैं। वह किसी भी कीमत पर परीक्षा देने को तैयार नहीं है। उनका कहना है कि यदि परीक्षा कक्ष में बैठने के कारण कोरोनावायरस का इंफेक्शन हो गया तो कौन जिम्मेदार होगा।

जब IIT BOMBAY में जनरल प्रमोशन दे दिया तो मध्यप्रदेश में क्यों नहीं

सोशल मीडिया पर #GeneralPromotionToMPStudents ट्रेंड कराकर सुरक्षा की दृष्टि से और अलग-अलग परेशानियां बताकर जनरल प्रमोशन की मांग कर रहे हैं। यह सीएम और राज्यपाल को बताना चाह रहे हैं कि आईआईटी बॉम्बे जैसे संस्थानों ने स्टूडेंट्स को जनरल प्रमोशन देने का निर्णय लिया है। यह सभी की सुरक्षा के लिए बेहतर है। छात्र बड़ी संख्या में अपनी बात रख रहे हैं। 

स्टूडेंट्स के सवाल जिनके जवाब नहीं मिल रहे

मुख्यमंंत्री जी, मैं अपने माता-पिता की एक ही संतान हूं और मैं उनके और अपने जीवन को सिर्फ एक कागज के टुकड़े के लिए बर्बाद नहीं करना चाहता। अथर्व यशवंते
क्या सीएम महादेय व मानयीय राज्यपाल छात्रों का भय दूर करने के लिए परीक्षा हाॅल में बैठेंगे? गौरव डावरे
दूसरे जिलों से आए छात्रों को परीक्षा के बाद वापस पहुंचाने की जिम्मेदारी किसकी? मयंक सोलंकी
 उन छात्रों का क्या, जो लॉकडाउन में मप्र में नहीं हैं? मैं वर्तमान में अपने कॉलेज से 1200 किमी दूर हूं। यदि कोई रास्ते में संक्रमित हो जाता है तो कौन जिम्मेदार होगा? उज्ज्वल
भले ही पाठ्यक्रम 50% पूरा न हुआ हो, फिर भी सरकार परीक्षा के लिए छात्रों के जीवन को जोखिम में डाल रही है। क्या यह सही है? विशाल दास
 यदि कोई छात्र किसी अन्य बीमारी जैसे लू लगना या बुखार से पीड़ित होता तो स्क्रीनिंग में उसका तापमान गर्म आएगा, उनकी परीक्षा का क्या? मृत्युंज्य पाठक
क्या आप स्वयं को आर्थिक रूप से स्थिर बनाने परीक्षा करने की योजना बना रहे हैं? प्रतिज्ञा पाटीदार
कई छात्र इंटरनेट व अध्ययन सामग्री के बिना अपने गांवों में फंसे हैं। इस महामारी के दौरान परीक्षा की तैयारी कैसे करनी चाहिए? दीपक पवार
बहुत से छात्र कंटेनमेंंट जोन में आते हैं। उनके आने-जाने की सुविधाओं का ध्यान कौन देगा ? सचिन मालवीय
मप्र में सबसे ज्यादा काॅलेज और सबसे बड़ी यूनिवर्सिटी इंदौर, भोपाल में ही हैं और वहां पर संक्रमण स्तर देख अभिभावकों को अस्वस्थ करना किसकी जिम्मेदारी है? प्रनय शुक्ला

घबराएं नहीं, सभी छात्रों की सुरक्षा का ध्यान रखा जाएगा: करलिन खोंगवार देशमुख

करलिन खोंगवार देशमुख, प्रमुख सचिव, तकनीकी शिक्षा के मुताबिक, गाइडलाइन तैयार की जा रही है। हर छात्र की सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा जाएगा। हम ऑनलाइन परीक्षा कराने पर भी विचार कर रहे हैं, ताकि 15 जुलाई तक रिजल्ट घोषित हो सकें। 

अनुपम राजन, पीएस, उच्च शिक्षा विभाग के मुताबिक, अभी सिर्फ फाइनल ईयर के छात्रों की परीक्षा कराने का निर्णय हुआ है। इंटर यूनिवर्सिटी में यह व्यवस्था की जाएगी कि छात्र अपने जिला, तहसील व ब्लॉक स्तर के कॉलेज में जाकर परीक्षा दे सके

27 मई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

MP में कॉलेज की परीक्षा तारीख तय, जनरल प्रमोशन नहीं
रेलवे काउंटर से प्राप्त रिजर्वेशन टिकट पर यात्री का नाम क्यों नहीं होता
नौतपा में ऐसा क्या होता है तापमान अचानक आउट ऑफ कंट्रोल हो जाता है
दिल्ली अप्रूवल के लिए भेजी गई शिवराज सिंह मंत्री मंडल की प्रस्तावित लिस्ट लीक
पैडमेन की एक्ट्रेस प्रेक्षा मेहता ने इंदौर में सुसाइड किया
सीमेंट में पानी डालते ही वह जम क्यों जाता है, फार्मूला क्या है
ज्योतिरादित्य सिंधिया भोपाल आ रहे हैं, पढ़िए क्या धमाका करेंगे
भाजपा में सिंधिया विरोधी लामबंद: पवैया के साथ सांसद यादव और विधायक रघुवंशी!
बादल नीचे क्यों नहीं गिरते जबकि वह पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण में होते हैं
घोड़ा सोता क्यों नहीं, हमेशा खड़ा क्यों रहता है, बैठता क्यों नहीं
जबलपुर में कर्मचारी और किसानों से बिजली बिल वसूली पर फोकस
MP BOARD 12th EXAM NEW TIME TABLE / एमपी बोर्ड 12वीं परीक्षा का टाइम टेबल जारी
मध्यप्रदेश में कोरोना 7000 के पार, 305 मौतें, 50 जिलों में संक्रमण
पटवारी की शादी में 1500 लोग, पूरे चौहान परिवार पर मामला दर्ज
भोपाल बाजार खोलने के आदेश: पढ़िए कब क्या खुलेगा- क्या बंद रहेगा


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here