Loading...    
   


अतिथि विद्वान मंत्री जीतू पटवारी की उपस्थिति में दीपक बाबरिया से मिले, उम्मीद जगी | MP NEWS

भोपाल। भोपाल में 89 दिनों से प्रदर्शन कर रहे अतिथि विद्वानों का एक प्रतिनिधिमंडल कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया से मिला। इस मुलाकात के समय उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी भी उपस्थित थे। मुलाकात के बाद संघर्ष मोर्चा के नेताओं ने बताया कि प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया ने सकारात्मक बात की है।

राजधानी भोपाल स्थित शाहजाहानी पार्क में चल रहे सूबे के सरकारी कॉलेजों में अध्यापन कार्य करने वाले महाविद्यालयीन अतिथिविद्वान विगत 89 दिनों से कांग्रेस पार्टी द्वारा दिये गए वचन अनुसार नियमितीकरण की मांग को लेकर धरना एवं आंदोलन कर रहे है। जबकि उच्च शिक्षा विभाग द्वारा सहायक प्राध्यापकों की नई पदस्थापना के फलस्वरूल लगभग 2700 अतिथिविद्वानों को फालेन आउट करके नौकरी से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया था। हालांकि मंत्री जीतू पटवारी लगातार मीडिया में किसी भी अतिथिविद्वान को सेवा से पृथक न करने का आश्वासन देते चले आ रहे हैं, किन्तु पदों की कमी और उच्च शिक्षा विभाग की निरंतर पैंतरेबाजी से इस बात की संभावना कम ही दिखाई पड़ रही है कि सभी बाहर किये गए अतिथिविद्वानों को पुनः नौकरी पर रख जा सके। 

अपनी इसी चिंता एवं नियमितिकरण की मांग को लेकर आज अतिथिविद्वानों का एक प्रतिनिधिमंडल कांग्रेस पार्टी के प्रदेश सचिव राजेन्द्र साहू के नेतृत्व में कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव एवं प्रदेश प्रभारी दीपक बाबरिया से मिलकर अपने नियमितीकरण की मांग रखी। अतिथिविद्वान नियमितीकरण संघर्ष मोर्चा के संयोजक डॉ देवराज सिंह ने कहा है कि हमारे एक प्रतिनिधिमंडल ने आज प्रदेश प्रभारी दीपक बाबरिया से मुलाकात कर नियमितीकरण और वचनपत्र पर चर्चा की है। जिस पर बोलते हुए उनके द्वारा कहा गया कि किसी भी अतिथि विद्वान को नौकरी से बाहर नही रखा जाएगा, यह सरकार की प्रथम प्राथमिकता है, इसके साथ ही नियमितीकरण के कौन से उपाय अपनाए जा सकते है, इस पर भी विचार किया जा रहा है। 

चूंकि सहायक प्राध्यापक का पद यूजीसी की नियमावली के आधीन है, इसलिये ऐसा रास्ता तलाशा जा रहा है जिससे अधिकतम अतिथिविद्वानों को नियमितीकरण की प्रक्रिया में शामिल किया जा सके। चयन का मापदंड साक्षात्कार एवं अन्य उपायों पर भी गौर किया जा रहा है। नियमितीकरण के विषय पर उन्होंने अतिथि विद्वानों से भी सुझाव मांगे है। जिस पर मोर्चा की ओर से सभी आवश्यक दस्तावेज श्री बाबरिया को सौंपे गए हैं। उनके द्वारा इस विषय पर अगले एक हफ्ते में पुनः चर्चा का आश्वासन दिया गया है।

दीपक बाबरिया ने मंत्री जीतू पटवारी से भी चर्चा की

अतिथि विद्वान नियमितीकरण संघर्ष मोर्चा के संयोजक डॉ सुरजीत भदौरिया के अनुसार आज की मुलाकात सकारात्मक रही है। दीपक बाबरिया जी ने अतिथि विद्वानों एवं मंत्री जीतू पटवारी से अलग-अलग चर्चा कर सबका पक्ष जाना। मंत्री जीतू पटवारी ने चॉइस फिलिंग प्रक्रिया की जानकारी दी है किंतु मोर्चा की ओर से स्पष्ट किया गया कि अतिथि विद्वानों का आंदोलन केवल नियमितीकरण हेतु विगत 89 दिनों चल रहा है। हमारा एकमात्र उद्देश्य वचनपत्र अनुसार अतिथि विद्वानों का नियमितीकरण है, न कि चॉइस फिलिंग। अगले हफ्ते की प्रस्तावित भेंट में नियमितीकरण के विभिन्न उपायों में चर्चा की जाएगी।


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here