Loading...    
   


ग्वालियर लॉक-डाउन: स्कूटर/ बाइक पर सिर्फ एक सवारी की परमिशन | GWALIOR NEWS

ग्वालियर। अगर आपको किसी जरूरी काम से जाना है तो बाइक पर अकेले ही जाएं। यात्री वाहनों में भी एक सवारी से ज्यादा बैठी मिलती है तो वाहन का परमिट और ड्राइवर का लाइसेंस तत्काल प्रभाव से निरस्त कर दिया जाएगा। परिवहन विभाग ने फरमान जारी किया है कि आज 23 मार्च से बस, तीन पहिया वाहन और दुपहिया वाहन पर सिर्फ वाहन चालक ही रहेगा पीछे की सीट पर साथी को नहीं बैठा सकेंगे।

कोरोना वायरस जैसी महामारी से शहरवासियों को सुरक्षित रखने के लिए परिवहन विभाग कड़े कदम उठा रहा है जिसके चलते निर्णय लिया गया है कि बाहर से आने वाली और यहां से जाने वाली बसों का संचालन पूरी तरह से बंद रहेगा। शहर में संचालित होने वाली यात्री बसें, टेम्पो और तीन सवारी वाली ऑटो में सिर्फ एक यात्री ही सफर करेगा। एक सीट पर दूसरा यात्री बैठा मिलता है तो परिवहन विभाग के अधिकारी वाहन चालक पर तत्काल प्रभाव से कार्रवाई करते हुए ड्राइवर का लाइसेंस और परमिट निरस्त कर देंगे। विभाग के अफसरों द्वारा दुपहिया वाहन चालक पर भी यह फरमान जारी किया गया है। अधिकारियों का कहना है कि तीन सवारी और दो सवारी वाली सीट पर एक यात्री ही बैठेगा। परिवहन विभाग द्वारा शहर में होर्डिंग्स लगाकर लोगों को जागरुक किया जा रह है। विभाग द्वारा यह फरमान आगामी आदेश तक लागू होगा।

आज से होगा आदेश लागू

परिवहन विभाग के अधिकारियों द्वारा 22 मार्च को प्रधानमंत्री के आह्वान पर जनता कफ्र्यू को सफल बनाने का आग्रह किया गया था आज 23 मार्च से विभाग के अधिकारी सडक़ों पर आकर ऐसे वाहनों पर नजर रखेंगे। प्रशासन द्वारा सुरक्षा की दृष्टि से शहर को 3 दिन तक लॉक किया गया है। परिवहन अधिकारियों का कहना है कि इस दौरान जो भी यात्री वाहन संचालित होते मिलेंगे उन पर भी कार्रवाई होगी।

किसानों ने बेची सस्ती सब्जी

जनता कफ्र्यू के चलते आज लक्ष्मीगंज सब्जी मंडी में दुकानें बंद थीं और छत्री बाजार और मुरार सब्जी मंडी भी बंद रही। प्रशासन द्वारा आदेशित किया गया था कि जरूरत का सामान जैसे दूध, सब्जी, किराना, मेडिकल स्टोर खुले रहेंगे, लेकिन इसके बाद भी स्वेच्छा से लोगों ने अपनी दुकानें बंद रखीं। लक्ष्मीगंज सब्जी मंडी में तडक़े 4 बजे से जो किसान सब्जी लेकर आए उन्हें खरीदार नहीं मिले तो सस्ते दामों में बेचकर चले गए। सब्जी मंडी में पहुंचे जनकगंज थाना प्रभारी ने उन्हें हटा दिया। छत्री बाजार सब्जी मंडी की दुकानें पूरी तरह से बंद रहीं।

यात्रियों को होना पड़ा परेशान

जनता कफ्र्यू के चलते रेलें बंद हैं और बसों के पहिए थमे हुए हैं, लेकिन जो रेल रात में चली थीं, वह रेलवे स्टेशन पर पहुंचीं। रेल से उतरने वाले यात्रियों की संख्या न के बराबर रही लेकिन इन्हें अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए परेशान होना पड़ा। टेम्पो, ऑटो नहीं चलने से यात्रियों को पैदल ही जाना पड़ा, तो कुछ लोगों के परिचित अस्पताल में भर्ती हैं वह भी आज परेशान हुए।

दूधियों को पुलिस ने भगाया

रविवार को सुबह शहर के कुछ स्थानों पर गांव से दूध लेकर आने वाले दूधिए दूध बेच रहे थे जिन्हें पुलिस ने चलता कर दिया। सुबह से ही दूध की दुकानें बंद हैं और जो लोग गांव से दूध लेकर आते हंै वह दूध लेकर दुकानों पर पहुंचे इनकी संख्या रोज की अपेक्षा कम थी, लेकिन जो दूधिए दूध लेकर आ गए थे उन्होंने दुकानों के बाहर ग्राहकों को दूध बेचना शुरू कर दिया। पुलिस ने भीड़ देखी तो तुरंत ही खदेड़ दिया।

भिक्षुकों को रहा दानदाताओं का इंतजार

खुले आसमान के नीचे रहकर जीवनयापन करने वाले भिक्षुक दानदाताओं का इंतजार करते रहे। कोरोना वायरस जैसी महामारी से लोगों को बचाने के लिए शहर के मंदिरों में ताले लटके हुए हैं और दर्शनार्थी व दानदाता मंदिर नहीं पहुंच रहे हैं। मंदिरों के पास बैठकर अपना पेट भरने वाले भिक्षुक आज दानदाताओं का इंतजार करते रहे। भिक्षुकों के साथ- साथ आज शहर में संचालित होने वाले आश्रमों में रहने वाली महिलाओं और बच्चों को भी दानदाताओं का इंतजार रहा।

नहीं हुई प्रार्थना, मंदिर रहे बंद

रविवार को चर्चों में विशेष प्रार्थना की जानी थी, ईस्टर पर्व के दौरान हर रविवार को प्रार्थना चर्चों में आयोजित की जा रही है लेकिन जनता कफ्र्यू के चलते प्रार्थना नहीं हुईं। रविवार को धार्मिक स्थलों पर सन्नाटा पसरा हुआ था। मंदिरों में सुबह पुजारी ने पूजा कर ताला लगा दिया तो इबादतगाहों में ताले लटके हुए हैं। धर्मगुरुओं ने भी इस जनता समर्थन में अपना सहयोग देते हुए सभी धार्मिक स्थल बंद रखे हंै। मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, जिनालय में आज प्रार्थनाएं और पूजा अर्चना नहीं हुईं। 

जनता ने जगह-जगह बजाए शंक और बर्तन

कोरोना वायरस से बचने के लिये पीएम मोदी द्वारा राष्ट्र के नाम सम्बोधन में कहा कि 22 मार्च की सायं 5 बजे घर से निकल कर बर्तन, शंख और ताली बजाएं। उसी क्रम में शहर में आज जगह-जगह बर्तन, शंख और तालियां बजाई गईं।

22 मार्च की सबसे ज्यादा पढ़ी गई खबरें

क्या ट्रक की तरह ट्रेन को धक्का देकर चालू किया जा सकता है, पढ़िए 
कोरोना वायरस: ग्वालियर कलेक्टर गाइडलाइन जारी 
सिर्फ मादा मच्छर इंसानों का खून क्यों पीती है, जबकि महिलाएं हिंसा पसंद नहीं करती
9वीं और 11वीं के विद्यार्थी परीक्षा परिणाम घर से देख सकेंगे
जबलपुर अस्पताल में कोरोना के नाम पर लोगों को कैद कर दिया गया (वीडियो देखें)
लॉक-डाउन क्या होता है: क्या कर सकते हैं क्या नहीं कर सकते 
मध्य प्रदेश के 9 जिले लॉकडाउन, बाजार बंद, सीमाएं सील 
यदि चलती ट्रेन में ड्राइवर बेहोश हो जाए तो क्या होगा, पढ़िए
MPPEB NEWS: अप्रैल से जून तक की एंट्रेंस एग्जाम का कैलेंडर जारी
मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव-2 के लिए सचिवालय से अधिसूचना जारी


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here