मध्य प्रदेश की राजनीति में बड़ा घटनाक्रम: गुरुग्राम के होटल में 8 विधायक, चार मुक्त कराए | MP NEWS
       
        Loading...    
   

मध्य प्रदेश की राजनीति में बड़ा घटनाक्रम: गुरुग्राम के होटल में 8 विधायक, चार मुक्त कराए | MP NEWS

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजनीति में बड़ा घटनाक्रम हुआ है। दिल्ली के नजदीक गुरुग्राम के एक पांच सितारा होटल में मध्य प्रदेश के दो मंत्री और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह अचानक पहुंच गए। उन्होंने बताया कि यहां सत्तारूढ़ दलों के 8 विधायकों को भाजपा ने रोक कर रखा है। होटल में काफी हंगामा हुआ। कांग्रेस ने दावा किया कि 4 विधायकों को मुक्त करा लिया है। वीडियो में बसपा विधायक श्रीमती रामबाई दिखाई दी। 

मंगलवार सुबह से शुरू हुई राजनीतिक उठापटक

मंगलवार की सुबह कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर कहा कि भाजपा नेता भूपेंद्र सिंह बसपा के विधायक रमाबाई को अपने साथ चार्टर्ड प्लेन से दिल्ली लाए हैं। हालांकि, रमाबाई के पति गोविंद ने इसका खंडन करते हुए कहा कि रमाबाई अपनी बेटी से मिलने के लिए दिल्ली गई हैं। शाम को खबर आई कि राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी दिल्ली पहुंच गए हैं। 

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने दो मंत्रियों को दिल्ली भेजा

इसके बाद देर रात सूचना मिली कि भाजपा ने बसपा विधायक रमाबाई, कुछ कांग्रेस और निर्दलीय विधायकों को गुरुग्राम के एक होटल में रखा है। इसके बाद भोपाल से कांग्रेस के मंत्री जीतू पटवारी और जयवर्धन को दिल्ली के लिए रवाना किया गया। पटवारी ने बताया कि उनके होटल पहुचने से पहले ही सभी विधायकों को कहीं और भेज दिया गया था। उन्होंने कहा कि केवल रमाबाई ही होटल के बाहर मिलीं।

वीडियो में श्रीमती राम भाई वापस आते हुए दिखी

इस घटनाक्रम के दौरान दिग्विजय सिंह दिल्ली में ही मौजूद थे। खबर मिलने पर वह भी होटल पहुंचे थे। उन्होंने कहा, जब हमें पता चला तो जीतू पटवारी और जयवर्धन सिंह वहां (होटल) गए थे। जिन लोगों से हम संपर्क कर सके हैं वह हमारे साथ वापस आने के लिए तैयार हैं। हम बिसाहूलाल सिंह और रामबाई से संपर्क कर पाए हैं। रमाबाई वापस आ गई हैं, हालांकि भाजपा ने उन्हें रोकने का प्रयास किया।

भाजपा के पास10-11 विधायक थे: दिग्विजय सिंह

दिग्विजय ने कहा, भाजपा के रामपाल सिंह, नरोत्तम मिश्रा, अरविंद भदौरिया और संजय पाठक उन्हें रुपये देने जा रहे थे। अगर वहां छापा पड़ता तो वह पकड़े जाते। हमें लगता है कि वहां 10-11 विधायक थे, अब उनके साथ केवल चार विधायक हैं, वो भी हमारे पास वापस लौट आएंगे।