गर्मी से पहले भोपाल में क्या कुछ करना है: कमिश्नर ने बताया | BHOPAL NEWS
       
        Loading...    
   

गर्मी से पहले भोपाल में क्या कुछ करना है: कमिश्नर ने बताया | BHOPAL NEWS

भोपाल। कमिश्नर श्रीमती कल्पना श्रीवास्तव ने इस वर्ष हुई पर्याप्त वर्षा और केरवा तथा कोलार डेम से मिलने वाले अतिरिक्त जल के दृष्टिगत बैरागढ़ सहित भोपाल की सभी बस्तियों में प्रतिदिन पेयजल आपूति करने के लिए कहा है। संभागायुक्त सभागार में सम्पन्न हुई बैठक में मूलभूत सुविधाओं संबंधी प्रगति की समीक्षा की। बैठक में आयुक्त नगर निगम श्री बी विजय दत्ता, प्रदूषण निवारण बोर्ड, विद्युत मंडल तथा राजस्व विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

पूरे शहर में पेयजल प्रबंधन 

आगामी ग्रीष्म ऋतु में शहर में पेयजल आपूर्ति प्रतिदिन और स्वच्छ जल प्रदाय किये जाने के स्पष्ट निर्देश दिए गए इसके लिए पूर्व निर्मित कार्ययोजना का शत-प्रतिशत अमल फरवरी के अंतिम सप्ताह तक सुनिश्चित हो। विशेष रूप से बैरागढ़ क्षेत्र में ग्रीष्म ऋतु में प्रतिदिन पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित करने हेतु शाहजहांनाबाद पंप हाउस का निर्माण समय सीमा में सुनिश्चित हो। केरवा तथा कोलार डेम से अतिरिक्त जल आरक्षण के लिए प्रस्ताव आयुक्त को शीघ्र प्रेषित किया जाये। पेयजल के फिल्ट्रेशन/क्लोरीनेशन निर्धारित मानकों के अनुसार किया जाये। फिल्ट्रेशन प्लांटों/ पेयजल वितरण की टंकियों की नियमित सफाई की जाये। पेयजल आपूर्ति की लाइनों का दुरूस्तीकरण (लीकेज्स रोकने) समय समय पर किया जाये।

सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट का निर्माण शुरू करें

सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट के लिए आवंटित भूमि पर शीघ्र निर्माण कार्य शुरू कराया जाकर आगामी मार्च 2020 तक पूर्ण कर क्रियाशील किया जाये। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा संचालित सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट के आधुनिकीकरण की कार्यवाही लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के माध्यम से सुनिश्चित की जाए। इस हेतु नगर निगम नोटशीट प्रस्तुत करें। एनजीटी के निर्णय के पालन में संपूर्ण नालों पर बायोरेमेडेशन का कार्य करवाये जायें तथा वर्तमान में नालों में लगी जालियों के फोटोग्राफ जियोटेक करके प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को प्रेषित किये जाएं। शहर के बड़े झीलों और वाटर बॉडीस मिल रहे सीवेज नालों पर शत प्रतिशत सॉलिड वेस्ड टैपिंग लगाए जायें। ऐसे सीवेज का बायो रिमिडेशन भी कराया जाना सुनिश्चित करें जिससे जल प्रदूषण पर प्रभावी नियंत्रण किया जा सके।

सीवेज और गंदे पानी का ट्रीटमेंट

दानापानी और ट्रांसपोर्ट नगर में कंपोसटिंग यूनिट में समुचित उपचार किए जायें जिससे बदबू की समस्या से आम नागरिक को निजात मिल सके। स्लॉटर हाउस से बहने वाले सीवेज का भी ट्रीटमेंट आवश्यक है। आदमपुर छावनी में स्थित सेनेटरी ट्रीटमेंट प्लांट को अपग्रेड कर कम्पोस्टिंग विधि से सेनेटरी ट्रीटमेंट किए जाने हेतु नगर निगम तथा प्रदूषण बोर्ड के अधिकारी संयुक्त भ्रमण कर प्रतिवेदन प्रस्तुत करें।

प्राकृतिक जलाशयों में नालों आदि का गंदा पानी मिलने से रोकने के लिए बनाए जा सके संयंत्रों की समीक्षा की गई। सूरज नगर, जमुनिया, शाहजहांनी पार्क, मक्सी, शाहपुरा आदि के संयंत्रों के निर्माण की समीक्षा करते हुए उन्होंने एनजीटी की 2017 की गाइड लाईन अनुसार सभी चिन्हित नालों पर भी तत्काल प्रभावी कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं। आयुक्त नगर निगम ने बताया कि सभी नालों पर जाली आदि लगाकर शत प्रतिशत सालिड वेस्ट को प्राकृतिक स्त्रोत में जाने से रोका गया है। उन्होंने बताया कि दो पायलट प्रोजेक्ट के आधार पर ही अन्य कार्य किए जायेंगे।

बैठक में बीडीए की कालोनियों के नगर निगम को हस्तांतरण कार्य की समीक्षा की गई और नगर निगम को सुसंगत मदों में ही राशि लिए जाने के निर्देश दिए गए। हमीदिया और सुल्तानिया अस्पताल में पेयजल प्रदाय निर्बाध रूप से करने के भी नगर निगम को निर्देश दिए गए हैं।

भोपाल में आवारा डॉग की गणना की समीक्षा के दौरान बताया गया कि निजी एजेंसी द्वारा नए सिरे से सर्वे का कार्य प्रारंभ किया गया है। डॉग के लिए 3 फीडिंग और 2 एबीसी सेंटर का निर्माण कार्य भी अंतिम चरण में है। नीलबड़ में 150 डॉग के लिए अतिरिक्त शेड बनाया गया है। बैठक में बताया गया कि एयरपोर्ट तक जाने वाली 17 बसों के सूचना पटल पर भी जानकारी दी जा रही है। बैठक में कईं अन्य सुविधाओं पर भी चर्चा की गई। भारत माता परिसर के निर्माण में काटे जा रहे वृक्षों के आंकलन हेतु नगर निगम एवं सीपीए के अधिकारी संयुक्त भ्रमण कर स्थिति से अवगत करायें। बीडीए की कालोनी को नगर निगम द्वारा हैंडओवर के प्रस्ताव पर कार्यवाही कर अवगत कराया जाये।