100 करोड़ के जमीन घोटाले का आरोपी ₹15000 महीने वाला नौकर निकला | INDORE NEWS
       
        Loading...    
   

100 करोड़ के जमीन घोटाले का आरोपी ₹15000 महीने वाला नौकर निकला | INDORE NEWS

इंदौर। फीनिक्स देवकॉन जमीन घोटाले में गिरफ्तार आरोपित 15 हजार रुपए महीने का नौकर निकला। वह अभी तक एक अरब से ज्यादा की रजिस्ट्रियां कर चुका है। उसके साइन और अंगूठे से 600 से ज्यादा रजिस्ट्री हो चुकी हैं। आरोपित 3 साल पहले भी कांकड़, बगीचे, नाले की जमीन बेचने के आरोप में गिरफ्तार हो चुका है। 

लसूड़िया थाना टीआई संतोष दूधी के अनुसार आरोपित भूमाफिया चंपू उर्फ रितेश के साथी रितेश पिता विमल चंद्र बोहरा निवासी तिलकनगर को सोमवार रात गिरफ्तार किया था। आरोपित ने रिता शुक्ला, अर्चना जैन, समीक्षा जैन, सृष्टि जैन, शिंपलता जैन को रजिस्ट्री तो कर दी लेकिन मौके पर प्लॉट नहीं था। पूछताछ में रजत ने बताया कि वह चंपू की पत्नी योगिता की मेहंदी (मयूरी हीना) कंपनी में मार्केटिंग करता था। वर्ष 2012 में चंपू ने 15 हजार रुपए महीने की नौकरी पर रख लिया। कुछ समय बाद फीनिक्स देवकॉन में डायरेक्टर बना दिया। उसके हस्ताक्षर और अंगूठे से 600 रजिस्ट्री हो गई। जमीन के सौदे चंपू, चिराग और निलेश उसे रजिस्ट्रार ऑफिस जाने का बोल देते थे। इसके बदले 15 हजार रुपए महीने मिलता था।

एनआरआई निलेश-सोनाली और चिराग 9 केसों में आरोपित बने : टीआई के अनुसार फीनिक्स देवकॉन घोटाले के कुल 9 केस दर्ज है। रजत को सभी मामलों में आरोपित बना औपचारिक गिरफ्तारी दर्शा दी है। उसके बयानों के आधार पर रितेश के भाई निलेश अजमेरा उसकी पत्नी सोनाली और चिराग शाह को भी आरोपित बना दिया। निलेश एनआरआई है। विदेश भागने की आशंका में लुक आउट सर्कुलर जारी करवाया जा रहा है। इमीग्रेशन विभाग से भी जानकारी मांगी जा रही है।

जेएसएम देवकॉन की निकली चंपू से जब्त कार, संपत्ति कुर्की की तैयारी : 

पुलिस ने चंपू के घर से 50 लाख रुपए कीमती जो मर्सिडीज कार जब्त की थी, वह जेएसएम देवकॉन के नाम पर निकली। यह कंपनी करोड़ों के फर्जीवाड़े में लिप्त पिनेकल ड्रीम के संचालक आशीष दास की है। एसआई देवेंद्र मरकाम के मुताबिक आरोपित चंपू और निलेश की संपत्ति की जानकारी निकलवा ली है। धारा 82 सीआरपीसी के तहत कुर्की के लिए उद्घोषणा जारी करवा दी है। उध्ार तेजाजीनगर थाने में धोखाधड़ी के आरोप में गिरफ्तार चंपू की पत्नी योगिता को पुलिस ने मंगलवार को कोर्ट पेश कर जेल भेज दिया।