नोवेल कोरोना वायरस (NCOV) क्या है? कैसे फैलता है?
       
        Loading...    
   

नोवेल कोरोना वायरस (NCOV) क्या है? कैसे फैलता है?

कोरोना वायरस एक वायरस का समूह होता है, जो एक इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप के नीचे देखने पर एक प्रभामंडल, या मुकुट जैसा (कोरोना) दिखाई देता है। कोरोनावायरस को 2003 SARS प्रकोप के एटियलजिस्टिक एजेंट वायरस के रूप में मान्यता दी गई है। इस कोरोनावायरस के बारे में अधिक जानने के लिए अतिरिक्त नमूनों का परीक्षण किया जा रहा है, और इसके सम्बन्ध गंभीर तीव्र तीव्र श्वसन सिंड्रोम के साथ।

कोरोना वायरस विषाणुओं के परिवार का है और इससे लोग बीमार पड़ जाते हैं। यह वायरस ऊंट, बिल्‍ली तथा चमगादड़ सहित पशुओं में प्रवेश कर जाता है। दुर्लभ स्थिति में पशु कोरोना वायरस बढ़कर लोगों को भी संक्रमित कर सकता है। अभी तक नोवेल कोरोना वायरस (एनसीओवी) से दुनिया भर में सैकड़ों लोगों की मृत्‍यु हो चुकी है।

कुछ समय पहले कुछ अज्ञात कारण से ‘निमोनिया’ फैलने के मामलों एक थोक पशु और मछली बाजार जिसमें मुर्गियों, बिल्लियों, तीतरों, चमगादड़ों, मर्मोट्स, विषैले सांपों, चित्तीदार हिरणों और खरगोशों और अन्य जंगली जानवरों के अंगों को बेचने वाले 1000 स्टाल थे। को कारण माना जा रहा था, यह संदेहजताया गया कि इसका कारण एक पशु स्रोत से एक उत्पन्न कोरोनावायरस हो सकता है।

कोरोना वायरस मुख्य रूप से जानवरों के बीच फैलता है

वैज्ञानिकों का कहना है कि कोरोना वायरस मुख्य रूप से जानवरों के बीच फैलता है, लेकिन मनुष्य को भी प्रभावित करने और संक्रमित कर सकता है, जैसा कि Severe acute respiratory syndrome (SARS), Middle East respiratory syndrome (MERS) और मनुष्यों में पाए जाने वाले चार अन्य कोरोना वायरस के साथ देखा गया है, जो सामान्य सर्दी में हल्के श्वसन संबंधी बीमारियों के लक्षणों का कारण बनते हैं। ऐसी सम्भावना बतायी जा रही की सभी छह प्रकार के वायरस मानव-से-मानव में फैल सकते हैं। 2002 में मेनलैंड चीन में जीवित जानवरों के बाजारों से सिवेट बिल्लियों में, SARS नामक कोरोना वायरस का प्रकोप शुरू हुआ। और कुछ सुपरस्प्रेडर्स और अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा की मदद से, कनाडा और अमेरिका तक पहुँच गया, ऐसा बताया गया कि जिसके परिणामस्वरूप दुनिया भर में करीब 700 मौतें हुईं।

WHO द्वारा उस समय महामारी से निपटने के लिए चीन की आलोचना की गई थी। SARS की शुरुआत के दस साल बाद, ड्रोमेडरी ऊंट संबंधी कोरोना वायरस, MERS की वजह से 27 देशों में लगभग 750 से अधिक मौतें हुईं थी।

मध्य चीन के वुहान शहर में दिसंबर 2019 के मध्य में पहले संदिग्ध मामले सामने आए थे, इसके बाद 1 जनवरी 2020 को बाजार बंद कर दिया गया था और लक्षणों वाले लोगों को अलग कर दिया गया था। 700 से अधिक लोग, 400 से अधिक स्वास्थ्य कर्मचारियों सहित जो संदिग्ध मामलों के साथ निकट संपर्क में आए थे, उन पर बाद में नजर रखी गई। संक्रमण का पता लगाने के लिए एक विशिष्ट पीसीआर परीक्षण किया गया, तब वुहान क्लस्टर में 41 लोगों में 2019-nCoV की उपस्थिति की पुष्टि की गई थी। लेकिन इस मामले में ब्रिटिश वैज्ञानिकों का मानना है की ऐसे लगभग 1700 या उससे अधिक मामले हो सकते हैं। इस वाइरस के मानव-से-मानव संचरण को अभी तक इंकार नहीं किया गया है।
Report by: Rajeshwari Sain M. Sc Microbiology