डेयरी साइंस कॉलेज में 2020-21 में वेटरनरी छात्रों को नहीं मिलेगा प्रवेश | JABALPUR NEWS
       
        Loading...    
   

डेयरी साइंस कॉलेज में 2020-21 में वेटरनरी छात्रों को नहीं मिलेगा प्रवेश | JABALPUR NEWS

जबलपुर। नानाजी देशमुख पशुचिकित्सा विज्ञान विश्वविद्यालय के डेयरी साइंस कॉलेज जबलपुर और ग्वालियर में नए शैक्षणिक सत्र 2020-21 में छात्रों को दाखिला नहीं मिलेगा। दोनों कॉलेजों के लिए पशुपालन विभाग से न तो बजट की राशि मिली है और न ही प्रशासनिक स्वीकृति। वेटरनरी विवि को इन दोनों कॉलेजों में विद्यार्थियों को एआईट्रिपलई के माध्यम से प्रवेश देना है, लेकिन अभी तक कॉलेज को शुरू करने का काम ही पूरा नहीं हो सका है।

विवि प्रशासन ने पशुपालन विभाग को पत्र लिखकर नए कॉलेज को इस शैक्षणिक सत्र से शुरू करने के लिए बजट और प्रशासनिक स्वीकृति मांगी थी, लेकिन अब तो कोई जवाब नहीं मिला है। हालात ये हैं कि जबलपुर में डेयरी साइंस कॉलेज के लिए जगह तक तय नहीं की गई है। विवि प्रशासन चाहता है कि इस कॉलेज को महाराजपुर स्थित विवि के इमलिया फार्म की खाली जमीन पर खोला जाए, ताकि शैक्षणिक और व्यावहारिक प्रक्रिया को बेहतर तरीके से पूरा किया जाए, लेकिन बरगी विधायक संजय यादव इस कॉलेज को अपनी विधानसभा के अंर्तगत मंगेली में खोलना चाहते हैं।

प्रदेश में डेयरी की बढ़ती संभावना को देखते हुए इन दो कॉलेज को खोला जा रहा है। दोनों ही कॉलेजों में कुल 120 सीटों पर प्रवेश होगा। इनमें प्रवेश के लिए अखिल भारतीय स्तर पर प्रवेश प्रकिया होगी। इन कॉलेजों में प्रवेश के लिए बारहवीं में जीवविज्ञान या गणित विषय होना अनिवार्य है।

वर्जन-
वेटरनरी विवि के इन दोनों कॉलेज के लिए अभी तक बजट नहीं मिला है। प्रशासनिक स्वीकृति भी मिलनी बाकी है। इस वजह से नए शैक्षणिक सत्र में इनमें प्रवेश प्रक्रिया शुरू कर पाना मुश्किल है।
प्रो.पीडी जुयाल, कुलपति, वेटरनरी विवि, जबलपुर