Loading...

दिग्विजय सिंह के विधायक भाई ने ज्योतिरादित्य सिंधिया कैंप के मंत्री को टारगेट किया | MP NEWS

भोपाल। मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सबसे खास बात यही है कि जब कांग्रेस की सरकार होती है तो विपक्ष में किसी भी पार्टी की जरूरत ही नहीं होती। कांग्रेस की गुटबाजी खुद ही विपक्ष का रोल प्ले कर लेती है। दिग्विजय सिंह के विधायक भाई लक्ष्मण सिंह ने एक बार फिर ज्योतिरादित्य सिंधिया कैंप के मंत्री तुलसी सिलावट को टारगेट किया है। " एक साल बेमिसाल" पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने कहा कि, स्वास्थ्य के मामले में बीता 1 साल बेमिसाल नहीं बल्कि बदहाल था।

स्वास्थ्य के मामले में कमलनाथ सरकार का 1 साल बेहद बदहाल

गुना जिले की चाचौड़ा विधानसभा से विधायक लक्ष्मण सिंह ने कहा कि एक साल में मध्यप्रदेश बेमिसाल नहीं हुआ है। आज प्रदेश की हालत बदहाल है। ग्रामीण क्षेत्रों में कोई भी डॉक्टर जाने को तैयार नहीं है क्योंकि वहां सुविधाएं नहीं हैं। जो मंत्री ये कह रहे हैं कि कांग्रेस के एक साल में बेमिसाल। उनको अपने-अपने विधानसभा क्षेत्रों में जाकर जमीनी स्थिति देखनी चाहिए। उन्होंने कहा कि मै में बिल्कुल नहीं कहूंगा की एक साल बेमिसाल। मेरे निर्वाचन क्षेत्र में स्वास्थ्य सेवाएं बदहाल थीं, एक साल में भी बहुत सुधार नहीं हुआ है।  

यदि काम किया है तो समीक्षा करने मीडिया को भेजें

विधायक लक्ष्मण सिंह ने कहा कि मंत्रियों की 1 साल बेमिसाल कहने से क्या होता है, यदि सचमुच मंत्रियों ने काम किया है तो अपने-अपने क्षेत्र में मीडिया वालों को भेजें और मीडिया के लोग स्वतंत्र रूप से जनता से पूछा कि क्षेत्र में क्या काम हुआ है एक साल में। अगर जनता कहती है एक साल बेमिसाल तो ठीक है नहीं मैं इस सरकार के एक साल के कार्यकाल को बेमिसाल नहीं कहूंगा।

बड़ी चतुराई से सिंधिया पर हमला करते हैं दिग्विजय सिंह से जुड़े लोग 

कांग्रेस में दिग्विजय सिंह गुट के लोग काफी मंझे हुए खिलाड़ी हैं जबकि ज्योतिरादित्य सिंधिया कैंप के लोग "महाराज के सिपाही" की तरह सीधा हमला करते हैं। ताजा बयान में लक्ष्मण सिंह ने ज्योतिरादित्य सिंधिया की समर्थक मंत्री तुलसी सिलावट पर निशाना साधा लेकिन कुछ इस तरह कि उनका बयान कमलनाथ सरकार के खिलाफ प्रतीत हो। इधर जब सिंधिया कैंप के लोग दिग्विजय सिंह के खिलाफ बयान देते हैं तो सीधा हमला करते हैं और "उमंग सिंघार" की तरह जाल में फस जाते हैं।