Loading...

सहारा अस्पताल पर कार्रवाई से घबराए डॉक्टर नीरज शर्मा ने इस्तीफा दिया | GWALIOR NEWS

ग्वालियर। शहर में इन दिनों प्रशासनिक अधिकारियों और डॉक्टरों के बीच घमासान चल रहा है। कोर्ट से स्थगन आदेश रद्द होते ही प्रशासन ने पूरा लाव लश्कर सहारा अस्पताल की तरफ भेज दिया। देखते ही देखते सहारा अस्पताल को जमींदोज कर दिया गया। इस कार्रवाई के बाद इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ग्वालियर के अध्यक्ष डॉक्टर नीरज शर्मा ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। प्रशासनिक अधिकारियों के खिलाफ लामबंद होकर कई तरह के आपत्तिजनक ऐलान करने वाले डॉक्टर अब दहशत में है।

सहारा अस्पताल को कब्जे में लेकर तोड़ा गया

बसंत बिहार स्थित सहारा अस्पताल को लेकर न्यायालय में विवाद लंबे समय से विचाराधीन था। इस पर पिछले दिनों स्थगत आदेश हटने के बाद प्रशासन के निर्देश पर तोडफ़ोड़ की गयी थी। इसी बीच न्यायालय द्वारा फिर से स्टे आने के बाद कार्यवाही रोक दी गई थी। इस मामले को लेकर सोमवार को न्यायालय ने मामले पर फिर से सुनवाई करते हुए स्थगन आदेश को खारिज कर दिया। इसके बाद शाम को प्रशासनिक अधिकारियों की देखरेख में निगम के मदाखलत अमले ने जेसीबी से तुड़ाई शुरू कर दी। बड़ी संख्या में पुलिस बल भी इस दौरान मौजूद रहा। 

कांग्रेस नेता बृज मोहन परिहार से चल रहा था विवाद

शहर की पॉश कॉलोनी बसंत बिहार में स्थित सहारा अस्पताल के संचालक और पड़ौस में रहने वाले कांग्रेस नेता बृजमोहन परिहार के बीच मालिकाना हक को लेकर विवाद चल रहा है। जिसके चलते न्यायालय के आदेश के बाद यह कार्यवाही की गई है। चर्चा यह भी है कि पिछले महीने प्रशासन के अधिकारियों ने शहर भर के निजी अस्पताल और नर्सिंग होम का निरीक्षण किया था। जिसके विरोध में डॉ. लामबंद हो गये थे और उन्होंने अधिकारियों के बारे में कुछ गलत टिप्पणी भी की थीं। तभी से ही ऐसी अटकलें लगाई जा रही थीं कि प्रशासन और डॉक्टरों के बीच तनाव बढ़ रहा है। इसी बीच न्यायालय के आदेश के बाद प्रशासन ने यह तुड़ाई शुरू कर दी। 

डॉक्टर नीरज शर्मा सिम्स अस्पताल के संचालक है

इस कार्यवाही के बाद अन्य डॉक्टरों में भी प्रशासन की कार्यवाही को लेकर डर का माहौल दिख रहा है। इसके चलते ग्वालियर की इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. नीरज शर्मा ने इस्तीफा दे दिया है। डॉ. नीरज शर्मा वीनस लैब और कैंसर पहाड़ी पर सिम्स अस्पताल का संचालन भी करते हैं।