Loading...

आइए आपको चाय से मिलवाते हैं, कुछ मजेदार जानकारियां बताते हैं | GK IN HINDI

जला कर अपना कलेजा, चाय बाहों में भरता है, 
कुल्हड़ जैसा इश्क़ भला, कौन यहां करता है! 
जी हां, आज अंतरराष्ट्रीय चाय दिवस है। वही चाय जिसे आप रोज पीते हैं। कई बार मना भी करते हैं। कुछ ऐसे भी हैं जो कभी नहीं पीते लेकिन चाय का अपना इश्क होता है। क्या आप जानते हैं दुनिया में सबसे ज्यादा दीवाने यदि किसी के हैं, तो चाय के हैं। चाय, दुनिया में सबसे ज्यादा पिए जाने वाला ड्रिंक है। चाय पर चर्चा तो रोज ही होती है परंतु आइए आज चाय के बारे में चर्चा करते हैं: 

चाय पीने से शरीर गर्म होता है या ठंडा


जी हां, ज्यादातर लोगों को लगता है कि चाय पीने से शरीर गर्म हो जाता है। लोक सर्दियों में चाय इसीलिए पीते हैं लेकिन ऐसा नहीं होता। चाहें सर्दी का मौसम हो या गर्मी का चाय पीने के बाद शरीर हल्का सा ठंडा हो जाता है। इसका कारण है कैफीन। इस कैमिकल से फैट एनर्जी में बदलता है और पसीना आता है (इसलिए चाय पीने से गर्मी का एहसास होता है)। हालांकि, इससे बहुत ज्यादा गर्मी नहीं लगेगी, लेकिन फिर भी शरीर ठंडा हो जाएगा। कुछ खास तरह की चाय से फैट जल्दी बर्न होता है। यही वजह है कि पतले होने के लिए लोग ग्रीन टी पीते हैं। 

शरीर को सबसे ज्यादा ठंडा कौन करता है, कोल्ड ड्रिंक, आइस टी या गर्म चाय

एक ब्रिटिश साइंटिस्ट ने इस मामले में रिसर्च की और इंफ्रारेड थर्मामीटर से जांचने पर ये पाया कि एक गर्म दिन में कोल्ड ड्रिंक पीने पर 0.5 डिग्री शरीर का तापमान कम हो जाता है, लेकिन सिर्फ 9 मिनट के अंदर अगर ICE TEA पी जाए तो तापमान 0.8 डिग्री तक कम हो जाता है। यहीं अगर गर्म चाय पी जाए तो शरीर का तापमान 1-2 डिग्री तक कम हो जाता है। यानि गर्म चाय से शरीर ज्यादा जल्दी ठंडा हो जाता है। इसका एक कारण ये भी है कि मुंह में चाय पीते वक्त काफी ज्यादा सलाइवा बनता है। 

कितनी स्वास्थ्यवर्धक होती है चाय

चाय पीने से हार्ट अटैक का खतरा कम होता है, इससे वजन भी कम होगा, हड्डियों के लिए भी ये अच्छी है, ये हाइड्रेटिंग होती है और इसमें कई सारे एंटीऑक्सिडेंट्स भी होते हैं, हर्बल चाय से डाइजेस्टिव सिस्टम सही होता है। किसी भी और ड्रिंक की तुलना में चाय ज्यादा हर्बल है और कैलोरी का भी ख्याल रखती है। 

हर्बल टी क्या है, क्या यह चाय परिवार का सदस्य है


सबसे पहली बात तो यह जान लें कि हर्बल टी को चाय माना ही नहीं जाता क्योंकि वे कैमेलिया साइनेंसिस प्लांट से प्रॉसेस करके नहीं बनाई जातीं। ये फूलों, हर्ब, बीज, रूट्स या पौधों की छाल से बनाई जाती हैं। जहां तक कैफीन की मात्रा की बात है, सारी हर्बल टी कैफीन फ्री नहीं होतीं। बेहतर होगा हर्बल टी खरीदने से पहले हमेशा लेबेल पढ़ लें। 

टी बैग स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है या नुकसानदायक, क्या टी-बैग से कैंसर होता है, टी बैग यूज करना चाहिए या नहीं

टी बैग से चाय बनाना हमेशा आसान होता है लेकिन याद रखें कि चाय की पत्ती हमेशा टी बैग से बेहतर होती है। टी बैग में चाय की पत्तियां टूटी हुई होती हैं और इनमें इसेंशल ऑइल्स और अरोमा कम हो जाती है। इसलिए चाय की पत्ती यूज करना बेहतर है। रिपोर्ट्स की मानें तो टी बैग्स में जो केमिकल कोटिंग होती है वो गरम पानी में ऐक्टिव हो जाती है और इससे कैंसर तक हो सकता है। अच्छी बात यह है केमिकल वॉटर सॉल्यूबल होते हैं तो टी-बैग यूज करना ही हो तो इसे पहले ठंडे पानी में धो लें। 

ग्रीन टी और ब्लैक टी में क्या अंतर है

ग्रीन टी ब्लैक टी से ज्यादा पॉप्युलर है, इसके अलावा दोनों में कोई फर्क नहीं है। दोनों में फायदेमंद ऐंटीऑक्सिडेंट्स पाए जाते हैं। चाय की पत्ती फर्मेंटेशन प्रॉसेस से गुजरने के बाद हरी या काली हो जाती हैं। हरी पत्तियों को ग्रीन टी और काली पत्तियों को ब्लैक टी कहा जाता है। दोनों सगी बहनें हैं। इसके अलावा दोनों में कोई अंतर नहीं है। ऐंटीऑक्सिडेंट्स दोनों में पाए जाते हैं। इसलिए दोनों समान है। 

चाय में दूध डालना चाहिए या नहीं

यह बहुत ही कॉमन मिथ है लेकिन इसमें जरा भी सच्चाई नहीं। चाय में दूध डालने से इसके हेल्थ बेनिफिट्स जरा भी कम नहीं होते। दूध में कैल्शियम होता है जो कि आपकी हड्डियों के लिए काफी फायदेमंद होता है। जर्नल ऑफ ऐग्रिकल्चर ऐंड फूड केमिस्ट्री में छपी एक स्टडी की मानें तो चाय में दूध डालने के बाद भी इसमें पाए जाने वाले कैटेचिन की संख्या उतनी ही रहती है।

क्या ग्रीन टी पीने से सचमुच वजन कम होता है

वजन कम करने वालों के बीच यह बात काफी पॉप्युलर होती है कि ग्रीन टी पीने से वजन कम होता है। यह फैक्ट उनका दिल तोड़ सकता है क्योंकि इस बात में जरा भी सच्चाई नहीं। ग्रीन टी में एक ऐसा स्टिम्यूलेंट पाया जाता है जो आपका मेटाबॉलिज्म बढ़ाता है लेकिन इसकी मात्रा काफी कम होती है। अगर आप सोचते हैं कि 4-5 कप ग्रीन टी पीने से आपका वजन कम हो जाएगा तो आप गलत हैं। 

शरीर में प्रदूषण से लड़ने की ताकत लाने वाली डिटॉक्स चाय कैसे बनाएं

एक बर्तन में 2 कप पानी लें और उसे उबलने दें। इसके बाद इसमें आधा इंच अदरक, दालचीनी का छोटा टुकड़ा या एक चौथाई चम्मच दालचीनी पाउडर, थोड़ा सा गुड़, आधा चम्मच तुलसी के पत्ते, 1 चम्मच सूखा ओरिगैनो, 3 काली मिर्च, 2 इलायची कुटी हुई, एक चौथाई चम्मच सौंफ, चुटकी भर अजवाइन, एक चौथाई चम्मच जीरा, लहसुन की 1-2 कली- इन सभी साम्रगियों को उबले पानी में डालें और करीब 10 मिनट तक इन सारी चीजों को धीमीआंच पर पानी में अच्छी तरह से मिक्स होने दें। फिर गैस बंद कर दें और चाय को कप में छान लें। इस चाय का फायदा तब ही है जब आप इसे गर्म-गर्म पिएं। 

दुनिया की सबसे महंगी चाय, 8 करोड़ रुपए प्रति किलो


टी-ब्लूम की एक रिपोर्ट के मुताबिक चीन के वूईसन इलाके में एक बेहद खास किस्म की चाय मिलती है। डा हॉन्ग पाओ टी नाम की इस चाय को संजीवनी बूटी कहना गलत नहीं होगा। रिपोर्ट की मानें तो इस चाय को पीने से इंसान कई बड़े रोगों से मुक्त हो सकता है। शायद इसी वजह से इस चाय की कीमत करीब साढ़े 8 करोड़ रुपये प्रति किलोग्राम है। इस हिसाब से देखा जाए तो इस चाय की कीमत दुनिया की सबसे लग्जरी कार रोल्स रॉयस के गोस्ट मॉडल से भी कहीं ज्यादा है। इतनी कीमत में आप बड़े आराम से 50 लाख रुपये की कीमत वाले 16 फ्लैट खरीद सकते हैं।

क्या ग्रीन और ब्लैक के अलावा भी चाय का कोई रंग होता है, गोल्डन टी

सिंगापुर में उगने वाली इस चाय की पत्तियां पीली होती है और बनने के बाद इसका रंग सुनहरा हो जाता है। इसकी खेती होने के बाद साल में इसे सिर्फ एक बार ही तोड़ा जाता है। इसकी कीमत करीब 2 लाख रुपये प्रति किलो या फिर इससे ज्यादा होती है। 
--------------------- thanks------
(gk in hindi, current affairs in hindi, gk question in hindi, current affairs 2019 in hindi, today current affairs in hindi, general knowledge in hindi, gk ke question, gktoday in hindi, gk question answer in hindi, daily current affairs in hindi, gktoday hindi, gk quiz in hindi, current affairs in hindi 2019, general knowledge questions in hindi, current gk in hindi, general science in hindi, gk question answer in hindi 2019, most important general knowledge questions in hindi, general awareness in hindi, samanya gyan gk, general knowledge 2019 in hindi, )