Loading...

असिस्टेंट प्रोफेसर की भर्ती में अतिथि विद्वानों को प्राथमिकता दी जाएगी: उच्च शिक्षा मंत्री | ATITHI VIDWAN NEWS

भोपाल। दो पाटों (अतिथि विद्वान एवं एमपीपीएससी पास असिस्टेंट प्रोफेसर) के बीच में इस रही कमलनाथ सरकार ने अपना स्टैंड क्लियर कर दिया है। मध्य प्रदेश के हायर एजुकेशन मिनिस्टर जीतू पटवारी स्टेटमेंट दिया है कि मध्यप्रदेश में असिस्टेंट प्रोफेसर की भर्ती की प्रक्रिया में अतिथि विद्वानों को प्राथमिकता दी जाएगी। श्री जीतू पटवारी उज्जैन में गवर्नमेंट माधव साइंस पीजी कॉलेज में बायोटेक्नोलॉजी और माइक्रोबायोलॉजी भवन का लोकार्पण कर रहे थे।

मुंडन करा रहे हैं एमपीपीएससी चयनित सहायक प्राध्यापक 

बता दें कि मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा चयनित सहायक अध्यापकों की रैली जो महू इंदौर से शुरू हुई थी रविवार को भोपाल पहुंच चुकी है। यह लोग नियुक्ति आदेश के लिए आंदोलन कर रहे हैं। अब तक करीब 300 सहायक प्राध्यापक मुंडन करा चुके हैं। शुरुआत में जब मुंडन का दौर प्रारंभ हुआ था तब सरकार दबाव में नजर आई थी परंतु आप सरकार पर इस आंदोलन का कोई दवाब नजर नहीं आ रहा है। 

कमलनाथ का छिंदवाड़ा घेरकर बैठे हैं गेस्ट फैकेल्टी 

इधर भोपाल में असिस्टेंट प्रोफेसर नीलम पार्क में डटे हुए हैं तो उधर अतिथि विद्वानों ने सीएम कमलनाथ का निर्वाचन क्षेत्र छिंदवाड़ा चारों तरफ से घेर लिया है। पुलिस प्रशासन ने उन्हें छिंदवाड़ा से 13 किलोमीटर पहले रोक दिया। अतिथि विद्वानों का एक दल सड़क पर बैठकर अनशन कर रहा है। पूरे प्रदेश से अतिथि विद्वान छिंदवाड़ा पहुंच रहे हैं। प्रदर्शनकारी ट्रेन, सरकारी एवं निजी परिवहन बसें एवं निजी वाहनों से छिंदवाड़ा पहुंच रहे हैं।