मध्य प्रदेश के 6 जिलों में पारा 10 डिग्री से नीचे, बर्फीली हवाओं ने कड़कड़ाया | MP WEATHER REPORT
       
        Loading...    
   

मध्य प्रदेश के 6 जिलों में पारा 10 डिग्री से नीचे, बर्फीली हवाओं ने कड़कड़ाया | MP WEATHER REPORT

भोपाल। मध्यप्रदेश के आसमान पर हिमालय की बर्फीली और अरब सागर की नमी वाली हवाओं का संगम होने के कारण ठंड के मौसम में तेजी से करवट ली है। तापमान में जितना उतार-चढ़ाव दर्ज नहीं हुआ उससे ज्यादा असर मैदानों में दिखाई दे रहा है। उत्तरी मध्य प्रदेश यानी ग्वालियर के आसपास के इलाकों में घना कोहरा छाया हुआ है। मध्य प्रदेश के 6 जिलों का न्यूनतम तापमान 10 डिग्री से भी कम हो गया। 

मौसम विशेषज्ञ शैलेंद्र कुमार नायक ने बताया कि प्रदेश में विंड चिल फैक्टर प्रभावी है। इसलिए भोपाल सहित प्रदेश के अन्य जिलों में कड़ाके की सर्दी पड़ रही है। बादल छटने लगे हैं इसलिए रात के तापमान में गिरावट दर्ज की गई है। भोपाल में आज लगातार दूसरे दिन अधिकतम तापमान 18 डिग्री के आसपास बना हुआ है, जो सामान्य से लगभग आठ डिग्री कम है। न्यूनतम तापमान 11.4 डिग्री दर्ज किया गया। दिन में आज दस बजे तक सूर्य के दर्शन नहीं हो सके। 

इंदौर, ग्वालियर, भिंड, मुरैना, श्योपुर, दतिया, गुना, खरगोन, पचमढ़ी, रायसेन, राजगढ़, शाजापुर, उज्जैन, छिंदवाड़ा, जबलपुर, मंडला, नरसिंहपुर, रीवा, उमरिया और अन्य जिलों में भी कड़ाके की ठंड के कारण लोगों की सामान्य दिनचर्या प्रभावित हो रही है। 

इन छह जिलों में न्यूनतम तापमान 10 डिग्री से कम: रतलाम 8.8, रायसेन 9.1. शाजापुर 8.8, गुना 9.6, दतिया 8.4, धार 8.4 डिग्री सेल्सीयस रहा। (रात का पारा का जब 10 डिग्री से कम हो जाता है तो उसे कोल्ड डे माना जाता है।) वहीं भोपाल में न्यूनतम तापमान 11.4, ग्वालियर 10.8 डिग्री रहा।  

मौसम केंद्र से मिली जानकारी के अनुसार बीते 24 घंटों में मंडला 13.0, सिवनी 8.2, बैतूल 1.6, उमरिया 5.2, जबलपुर में 3.9 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है। 

स्कूलों का समय बदला: 

ठंड के मद्देनजर भोपाल में सभी सरकारी व निजी स्कूलों में 8वीं तक की कक्षाएं सोमवार से सुबह 8:30 के बाद लगाई जाएंगी। जिला शिक्षा अधिकारी ने इसका आदेश जारी कर दिया है।

ग्वालियर छाया घना कोहरा: 

पूरे ग्वालियर-चंबल संभाग में रविवार के बाद सोमवार को भी घना कोहरा छाया हुआ है। कोहरा छाने से सुबह -सुबह लोगों ने कुछ ज्यादा ही ठंड का अहसास किया। कोहरे का असर अभी दो दिन और रहेगा। इसके बाद पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होगा, तापमान बढ़ेगा और कोहरे से राहत मिल जाएगी।  पहाड़ों में लगातार हो रही बर्फबारी और वहां से आने वाली उत्तरी हवा से रविवार को ठिठुरन बढ़ गई। सुबह कोहरा छाया, फिर दिनभर सर्द हवा चली। उत्तरी हवा की रफ्तार छह किमी प्रति घंटा रही। मौसम विज्ञानी वेद प्रकाश सिंह के मुताबिक, अगले सप्ताह से सर्दी और बढ़ेगी। 18 दिसंबर के बाद फिर से पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो रहा है। यह 21 दिसंबर तक गुजर जाएगा। इसके बाद अंचल में कड़ाके की सर्दी पड़ेगी। इस दौरान कुछ क्षेत्रों में बूंदाबांदी होगी, साथ ही शीतलहर चलने की संभावना है।