Loading...

RDVV के कुलपति का कार्यकाल बढ़ा, अभिषेक सिंह जनजातीय कार्य विभाग में

भोपाल। राज्यपाल एवं कुलाधिपति श्री लालजी टंडन ने रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय, जबलपुर के कुलपति प्रोफेसर कपिल देव मिश्रा के कार्यकाल में चार वर्ष की वृद्धि की है। जारी आदेशानुसार प्रो. मिश्रा का वर्तमान कार्यकाल समाप्त होने के बाद कार्यभार  ग्रहण करने की दिनांक से 4 वर्ष वृद्धि की  कालावधि प्रारम्भ होगी। राज्यपाल द्वारा मध्यप्रदेश विश्वविद्यालय अधिनियम 1973 की धारा 13 की उप धारा एक में  प्रदत्त  शक्तियों के  तहत कुलपति प्रो. मिश्रा के कार्यकाल में वृद्धि की गई है। 

अभिषेक सिंह आईएएस उप सचिव, जनजातीय कार्य विभाग

राज्य शासन ने भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी श्री अभिषेक सिंह को वर्तमान दायित्वों के साथ पदेन उप सचिव, जनजातीय कार्य विभाग भी नियुक्त किया है। श्री सिंह वर्तमान में मध्यप्रदेश अनुसूचित-जनजाति वित्त एवं विकास निगम के प्रबंध संचालक के पद पर पदस्थ हैं। सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा आज यह आदेश जारी किया गया।

निजी चिकित्सालयों के लिये एनएबीएच प्रमाणीकरण प्रशिक्षण प्रारंभ

भोपाल। आयुष्मान भारत निरामयम् द्वारा होटल लेक-व्यू, भोपाल में आज निजी चिकित्सालयों के लिये दो दिवसीय प्रशिक्षण प्रारंभ किया गया। प्रशिक्षण में निजी चिकित्सालयों को नेशनल एक्रेडिटेशन बोर्ड ऑफ हॉस्पिटल्स (एनएबीएच) प्रमाणीकरण प्राप्त करने की प्रक्रिया की जानकारी दी जा रही है।

प्रशिक्षण के पहले दिन एनएबीएच प्रिंसिपल एसेसर एण्ड डिप्टी डायरेक्टर, हिन्दूजा चिकित्सालय, मुम्बई डॉ. सुगंथी अय्यर ने 42 निजी चिकित्सालयों के प्रतिभागियों को प्रशिक्षण दिया। इस दौरान आयुष्मान भारत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ. जे. विजय कुमार ने स्वास्थ्य सेवाओं में गुणवत्ता लाने तथा अधिक से अधिक चिकित्सालयों को एनएबीएच प्रमाणीकरण के लिये प्रोत्साहित करने पर बल दिया। साथ ही, उन्होंने आयुष्मान भारत निरामयम् योजनांतर्गत एनएबीएच प्रमाणित निजी चिकित्सालयों को स्वास्थ्य सेवाओं की गुणवत्ता बनाये रखने को भी कहा। प्रशिक्षण में कार्यपालन अधिकारी श्रीमती सपना लोवंशी तथा आयुष्मान भारत निरामयम् के अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

प्रशिक्षण का मुख्य उद्देश्य निजी चिकित्सालयों को एनएबीएच प्रमाणीकरण की जानकारी देना, प्रमाणित चिकित्सालयों की गुणवत्ता बनाये रखना तथा अधिक से अधिक निजी चिकित्सालयों को आयुष्मान भारत निरामयम् योजना में पंजीकृत होने के लिये प्रोत्साहित करना है। इस तरह के प्रशिक्षण इंदौर एवं जबलपुर में भी शीघ्र ही आयोजित किये जायेंगे।