Loading...

पाकिस्तान में दो युवक गिरफ्तार, एक मध्य प्रदेश का निवासी, दूसरा MP की लड़की का बॉयफ्रेंड

भोपाल। पाकिस्तान पुलिस ने अवैध रूप से घुस आए दो युवकों को गिरफ्तार किया है। इनमें से ही जिसका नाम वारीलाल बताया गया है मध्य प्रदेश का रहने वाला है जबकि दूसरा युवक जिसका नाम प्रशांत वैंधम बताया गया है और जो सॉफ्टवेयर इंजीनियर है, मध्य प्रदेश की एक लड़की से प्यार करता था। उसकी लव स्टोरी पूरी नहीं हो पाई और वह डिप्रेशन में चला गया था।

गिरफ्तार भारतीयों की पहचान मध्य प्रदेश निवासी वारीलाल और हैदराबाद निवासी प्रशांत वैंधम के रूप में की गई है। पाकिस्तान पुलिस ने कहा है कि दोनों को पंजाब प्रांत में बहावलपुर जिले के चोलिस्तान इलाके से 14 नवंबर को गिरफ्तार किया गया। यह लाहौर से 400 किलोमीटर दूर है। उनके पास उचित दस्तावेज नहीं थे। दोनों राजस्थान के रास्ते पाकिस्तान में घुसे। दोनों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। दोनों को फेडरल जांच एजेंसी को सौंप दिया गया। एजेंसी दोनों से पूछताछ कर रही है। बताया गया है कि वैंधम सॉफ्टवेयर इंजीनियर है।

इससे पहले अगस्त में पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में पुलिस ने डेरा गाजी खान कस्बे में एक भारतीय जासूस को गिरफ्तार किया था। इस जासूस को प्रमुख खुफिया एजेंसी को सौंप दिया गया था। भारतीय जासूस की पहचान राजू लक्ष्मण के रूप में की गई। बलूचिस्तान प्रांत से कस्बे में प्रवेश करने के दौरान उसे गिरफ्तार किया गया।

प्रशांत वैंधम का मध्य प्रदेश कनेक्शन

पाकिस्तान में अवैध तरीके से प्रवेश करने के आरोप में गिरफ्तार प्रशांत वैंधम के पिता बाबू राव ने बताया कि उनका बेटा 29 अप्रैल 2017 से लापता है और मप्र की एक लड़की से प्रेम में नाकाम होने के कारण अवसाद में चला गया। वह हैदराबाद में एक सॉफ्टवेयर कंपनी में काम करता था। राव ने बताया कि उन्होंने बेटे के लापता होने की शिकायत पुलिस में दर्ज कराई थी।

विशाखापत्तनम निवासी बाबू राव का परिवार छह साल से हैदराबाद में रह रहा था। उन्होंने बताया कि उनके बेटे की पहली नौकरी बेंगलुरु में थी जहां उसी कंपनी में काम करने वाली मप्र की एक लड़की से उसे प्यार हो गया। लड़की स्विट्जरलैंड चली गई तो प्रशांत अवसाद में आ गया। बाबू राव ने कहा कि उन्हें नहीं मालूम कि प्रशांत कैसे राजस्थान पहुंचा और वारीलाल के संपर्क में आया। उन्होंने कहा-मैं इतना जानता हूं कि मेरा बेटा बेकसूर है। मैं पाकिस्तानी अधिकारियों से उसे जल्द रिहा करने की अपील करता हूं।

प्रशांत को सोमवार को एक वीडियो वायरल हुआ है। इसमें वह अपनी मातृभाषा तेलुगु में अपने माता-पिता से कह रहा है कि उम्मीद है कि वह एक माह के भीतर जेल से छूट जाएगा। हालांकि उसने वीडियो में यह नहीं बताया कि वह कैसे और कब पाकिस्तान पहुंच गया।