Loading...

कलेक्ट्रेट में आत्मदाह करने वाले अनिल बरार की मौत | GWALIOR NEWS

ग्वालियर। कलेक्ट्रेट में जनसुनवाई हॉल में 19 नवंबर को उस समय अफरा-तफरी का माहौल बन गया, जब एक 23 वर्षीय युवक ने अपने ऊपर मिट्टी का तेल डालकर आग लगा ली। आनन-फानन में उसे जयारोग्य अस्पताल की बर्न यूनिट में भर्ती कराया गया। जहां रविवार की दोपहर को उसकी मौत हो गई। जैसे ही युवक की मौत की सूचना प्रशासन को लगी। प्रशासन और पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया और पूरा अमला अस्पताल पहुंचा। प्रशासन ने मृतक की बॉडी को पीएम हाउस भिजवाया और तत्काल हर प्रकार की सहायता देने की भी बात कही।

ग्वालियर जिले की भितरवार विधानसभा क्षेत्र के वार्ड क्रंमाक 6 के पार्षद आशीष से मृतक अनिल बरार परेशान था। अनिल ने प्रशासन से लेकर पुलिस आधिकारियों तक अपनी शिकायत दर्ज करवाई थी। लेकिन जब उसकी शिकायत का निवारण नहीं हुआ तो मंगलवार 19 नंवबर को अनिल बरार भितरवार से कलेक्टर जनसुनवाई में आया और पहले उसने बात करने की कोशिश की, लेकिन यहां भी उपेक्षा होती दिखी तो क्षुब्ध होकर कक्ष के बाहर जवलशील पदार्थ डालकर आग लगा ली। इसके बाद वह जनसुनवाई कक्ष के अंदर घुस गया,अचानक युवक के कपड़ों से आग की लपट निकलते देख ड्यूटी पर तैनात दो होमगाड्र्स ने लपककर युवक के कपड़ों से आग बुझाने की कोशिश की। जब आग नहीं बुझी तो उसके कपड़े फाड़कर अलग कर दिए।

यह है पूरा मामला 

शहर के न्यू कलेक्ट्रेट (New Collectorate) में उस समय भगदड़ मच गई। जब युवक अनिल बरार (Anil Brar) ने ऑफिस अंदर खुद को आग लगा ली। घटना जनसुनवाई कक्ष में हुई। प्रत्येक मंगलवार को कलेक्ट्रेट में जनसुनवाई की जाती है। जिसमें लोग अपनी परेशानियों लेकर आते हैं जिन पर कलेक्टर तत्काल कार्रवाई करते हैं आग लगाने वाला युवक भितरवार विधानसभा क्षेत्र की तहसील का रहने वाला है। 

वह गलत तरीके के तहसील में हो रहे जमीन कब्जे की शिकायत बार-बार कर रहा था, लेकिन ग्वालियर कलेक्टर की ओर से एक्शन न होने से वह परेशान हो गया था। जिससे गुस्से में आकर उसने आग लगा ली।हालांकि मंगलवार वाली इस बैठक में कलेक्टर अनुराग चौधरी नहीं थे। उनके न होने पर एसडीएम रिंकेश वैश्य व अन्य अधिकार जनसुनवाई कर रहे थे। तभी जमीन पर कब्जे की शिकायत लेकर पहुंचे भितरवार तहसील निवासी अनिल बरार ने खुद को आग लगा ली। 

युवक को आग में घिरा देख वहां मौजूद अधिकारी एवं पुलिस हैरान हो गई। आनन फानन में युवक को झुलसने से बचाया और तत्काल अस्पताल पहुंचाया गया। जहां जिला अस्पताल की बर्न यूनिट में उसका इलाज किया जा रहा है। अनिल बरार 50 प्रतिशत जल गया है। उसने रोते हुए बताया की भितरवार में अवैध तरीके के सरकारी जमीन पर कब्जा किया जा रहा है। जिसमें वहां के पार्षद भी शामिल हैं। पार्षद मुझे मारने की धमकी दे रहे हैं। नगर परिषद एक्शन नहीं ले रही है। मैं कई बार जनसुनवाई में शिकायत कर चुका हूं लेकिन यहां से भी कोई एक्शन नहीं लिया गया है। मेरा भाई विकलांग है और उसे भी परेशान किया जा रहा है।