Loading...

कोर्ट में वकीलों और पुलिस के बीच दंगल, वकील को गोली लगी,एडिशनल DCP समेत 14 जख्मी | NATIONAL NEWS

नई दिल्ली। तीस हजारी कोर्ट परिसर में शनिवार शाम वकीलों और दिल्ली पुलिस के बीच हिंसक झड़प हुई। इस दौरान एक वकील को सीने में गोली लगी। अस्पताल में उसकी हालत स्थिर बनी हुई है। घटना से गुस्साए वकीलों ने जमकर हंगामा किया, पुलिस कंट्रोल रूम की जिप्सी और एक जेल वाहन को आग के हवाले कर दिया। घटना में एडिशनल डीसीपी (नॉर्थ), दो एसएचओ समेत 10 पुलिसकर्मियों को चोट आई। पुलिस का कहना है कि वकील हवालात में मौजूद कुछ कैदियों और पुलिसकर्मियों पर हमला करना चाहते थे। इसबीच, वकीलों ने 4 नवंबर को राजधानी की सभी जिला अदालतों में हड़ताल का ऐलान किया है।

बार एसोसिएशन के सदस्य जय बिस्वाल ने न्यूज एजेंसी को बताया कि पार्किंग एरिया पुलिस बैन ने एक वकील की गाड़ी को टक्कर मार दी। विरोध करने पर पुलिसकर्मियों उसे हवालात में रखा और मारपीट की। पुलिस ने वकील को करीब आधा घंटे के बाद छोड़ा। घटना के वक्त लोगों ने पुलिस को कॉल किया। इसके बाद एसएचओ और स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंची, लेकिन उन्हें अंदर नहीं जाने दिया गया। इसके बाद 6 जजों की टीम जांच करने पहुंची तो उन्हें भी अंदर नहीं जाने दिया गया।

बताया जा रहा है कि जब जज लौटने लगे तो पुलिसकर्मियों ने फायरिंग कर दी। इससे गुस्साए वकीलों ने पुलिस की दो गाड़ियों में आग लगा दी और करीब 17 अन्य वाहनों में तोड़फोड़ की। मौके पर फायर ब्रिगेड की 10 गाड़ियां भेजी गईं। इलाके में भारी संख्या में पुलिसबल तैनात किया गया। 

चश्मदीदों ने न्यूज एजेंसी को बताया कि झड़प में करीब 10 पुलिसकर्मी और 4 वकील जख्मी हुए हैं। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, जख्मी पुलिसकर्मियों में एडिशनल डीसीपी (नॉर्थ) हरेंद्र कुमार, कोलवाली और सिविल लाइंस के एसएचओ और डीपीसी (नॉर्थ) का ऑपरेटर शामिल है।

एडिशनल डीसीपी हरेंद्र सिंह ने कहा, ''सिर्फ पार्किंग को लेकर विवाद था। वकील हवालात में घुसकर बदला लेना चाहते थे। जिसमें कुछ कैदी और पुलिसकर्मी मौजूद थे। जब वकीलों को रोका गया तो उन्होंने तोड़फोड़ शुरू कर दी। इसके बाद पुलिस ने मानव श्रृंखला बनाकर कैदियों को दूसरे हवालात में शिफ्ट किया और उन्हें बचाया। अगर किसी को गोली लगी है तो यह मेडिकल रिपोर्ट में सामने आ जाएगा। लोगों को बचाते हुए मुझे भी चोट आई है।''

दिल्ली बार काउंसिल के चेयरमैन केसी मित्तल ने कहा कि कोर्ट परिसर में वकीलों के साथ बर्बरता की निंदा करते हैं। हमने 4 नवंबर राजधानी की जिला अदालतों में कामकाज ठप रखने का फैसला लिया है। वहीं, बार काउंसिल ऑफ इंडिया के अध्यक्ष मनन कुमार मिश्रा ने, “दिल्ली पुलिस की यह बहुत क्रूरतम कार्रवाई है। सिर्फ, पार्किंग मुद्दे को लेकर पुलिस ने निर्दोष वकीलों पर गोलीबारी शुरू कर दी। पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों और सरकार से दोषी पुलिसकर्मी को गिरफ्तार करने और उन्हें निलंबित करने की मांग करते हैं।”

वकील कदम खर्ब ने न्यूज चैनल से कहा कि पुलिस हमारी सुरक्षा में तैनात रहती है, लेकिन आज उन्होंने वकीलों पर सीधे गोलियां चलाईं। गोली लगने के बाद जख्मी वकील विजय वर्मा को सेंट स्टीफन हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। वकील गोली चलाने वाले पुलिसकर्मी पर कार्रवाई की मांग पर अड़े हैं। हालांकि, पुलिस का कहना है कि विवाद के दौरान उन्होंने फायरिंग नहीं की।