Loading...

हनी ट्रैप: डायरी में मिला करोड़ों का भ्रष्टाचार, SIT का नया ऑपरेशन शुरू | MP NEWS

भोपाल। मध्यप्रदेश के सबसे हाई प्रोफाइल हनी ट्रैप मामले में अब वो सभी लोग SIT के टारगेट पर आ गए हैं जो हनी ट्रैप में गिरफ्तार की गईं 2 महिलाओं से नियमित रूप से बात किया करते थे। SIT को महिलाओं के पास से एक डायरी मिली है जिसमें करोड़ों का हिसाब लिखा है। साथ ही कुछ ऑडियो रिकॉर्डिंग भी मिलीं हैं जिसमें लेन देन की बात हो रही है। अब यह करोड़ों के भ्रष्टाचार का मामला भी है। 

SIT ने 2 महिलाओं की हैंडराइटिंग और ऑडियो सैम्‍पल मांगे

हनी ट्रैप मामले की जांच के लिए गठित एसआईटी (SIT) ने जेल में बंद दो महिला आरोपियों के ऑडियो सैम्‍पल और हस्ताक्षर नमूनों की मांग की। इंदौर जिला कोर्ट में मंगलवार को हनी ट्रैप मामले में आरोपी पक्ष के वकीलों ने पुलिस द्वारा दिए गए आवेदन के विरोध में लिखित आपत्ति दी, जिसमें उन्होंने कहा कि पुलिस पहले ही 14 दिन की रिमांड ले चुकी है और उस दौरान पुलिस ने आरोपियों के हैंड राइटिंग और वॉइस सैम्‍पल क्‍यों नहीं लिए।

एसआईटी ने कोर्ट में बताया कि भ्रष्टाचार के सबूत मिले हैं

आरोपी पक्ष के वकीलों ने एसआईटी की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े करते हुए ऑडियो और हैंड राइटिंग सैम्पल लेने की अनुमति दिए जाने का विरोध किया। जबकि एसआईटी की तरफ से न्यायलय में पक्ष रख रहे अभियोजन अधिकारी अकरम शेख ने दलील देते हुए कहा कि एसआईटी को विस्तृत जांच में एक डायरी और मोबाइल में कई ऑडियो मिले हैं। डायरी में पैसों के लेनदेन के बारे में लिखा है। साथ ही मोबाइल में मिली बातचीत में कई रसूखदार पैसों के लेनदेन की बात कर रहे हैं। इसमें कुछ लोग गिरोह के सक्रिय सदस्य तो कुछ शिकार मालूम हो रहे हैं। ऑडियो के सैम्पल को जब्त कर लेब टेस्टिंग के लिए भेजा जाएगा। इसकी रिपोर्ट के बाद एसआईटी कुछ अन्य आरोपियों पर भी शिकंजा कस सकती है और कुछ अन्य को फरियादी भी बना सकती है।

कई घंटे की कवायद के बाद...

कई घंटों तक कोर्ट रूम में चली बहस के बाद न्यायालय ने एसआईटी को वॉइस सैम्पल और हस्ताक्षर के नमूने लेने की अनुमति देते हुए आरोपी पक्ष के वकीलों की अर्जी ख़ारिज कर दी। ऑडियो सैम्पल मिलने के बाद एसआईटी के लिए आरोपियों का जुर्म न्यायालय में सिद्ध करना भी आसान हो जाएगा। ऐसे में उम्मीद लगाई जा रही है कि अब इस मामले में शामिल राजनेता, अधिकारी, व्यापारी और कई रसूखदारों के चेहरे बेनकाब हो जाएंगे। जिला अभियोजन अधिकारी के मुताबिक मामले में अगली सुनवाई अब 24 अक्टूबर को होगी। आपको बता दें कि सभी आरोपी फिलहाल जेल में हैं।